लेख


गीतरचना - श्रीमती शैलजा गांगुली 
संगीतरचना - श्रीमती मीरा बलसावर  
संगीतसंयोजन -  श्री केदार पंडित
 


अब एक धाम है, एक लक्ष्य है, एक ही है आधार
अब एक धाम है एक लक्ष्य है एक ही है आधार - २
गुरुशक्ति से बँधे हैं हम सब - २


बाँटें निर्मल प्यार 
हम सारस्वत परिवार - ४
दूर हुआ दुर्मति का अँधेरा हृदय कमल में जगा सबेरा - २
साधना क्रम के नित नव रंग में झूम उठा संसार - १
हम सारस्वत परिवार - २


भाषा जो भी क्यों न हो, बोलेंगे हम प्रेम की बोली - २
श्री गुरु ने हमें आश्रित करके कर्मों की गठरी जो ढो ली - २
नामस्मरण की नाव पे चढ़कर चलेंगे अब उस पार - १
हम सारस्वत परिवार – २ 


है यह घनिष्ठ पुराना नाता शिवजी पिता हैं शक्ति माता
श्रद्धा भक्ति से गुरु हाथों  सौंप जो दी पतवार - २
उन्हीं के अनुग्रह से पहुँचेंगे हम मुक्ति के द्वार - १
हम सारस्वत परिवार - २
हम सारस्वत परिवार

 

लेखक - श्री विनय कल्याणपुर
हिंदी भाषांतर - अनुवाद समिति 


उत्तर भारत यात्रा की परियोजनाएँ और तैयारियाँ कई महीनों पूर्व प्रारंभ हो गयीं थीं। ४० दिनों में सड़क द्वारा ६०००  किलोमीटर की दूरी और उसमें ७ नए अनजान स्थलों की यात्रा तय करना - इस की कल्पना करना ही मेरे लिए असंभव  जैसा था । परंतु मैंने इसमें सहभागी होने का निश्चय इसलिए किया क्योंकि इस यात्रा के लिए स्वयं परम पूज्य स्वामीजी ने स्वीकृति दी थी और हम उन्हीं के सान्निध्य में  यात्रा पर जा रहे थे। अब पीछे मुड़कर देखता हूँ, तो मुझे बहुत खुशी होती है कि मैंने यात्रा पर जाने का निर्णय लिया। हमारे मठ के साधकों के साथ यह मेरी पहली यात्रा थी और मैंने इसके हर एक क्षण का भरपूर आनंद उठाया। 

हम १८ यात्री ११ फरवरी को कार्ला मठ में एकत्रित हुए। यहाँ शिराली से एक सुविधापूर्ण २५ सीटों वाली बस में, हमारे वाहन चालक अनिमय और मंजु, हमारे कई अन्य सहयात्रियों के साथ शिरालीसे पहले ही पहुँच चुके थे। इन दो युवा चालकों इस संपूर्ण लंबी किंतु सुनियोजित यात्रा में  इस बस को चलाने का  उत्तरदायित्व जो इन्होंने बडी जिम्मेदारीसे निभाया   १२ फरवरी २०२३, इस ऐतिहासिक दिन का उदय हुआ और हमने कार्ला मठ से सुबह ८.५८ बजे परम पूज्य स्वामीजी और उनके सेवक वर्ग के प्रस्थान के पश्चात् अपनी यात्रा प्रारंभ की। 

हमारा पहला गंतव्य था - “ शंकरालोक ” | संवित् साधनायन द्वारा प्रबंधित एक बहुत ही शांत और सुंदर आश्रम, जहाँ शंकर भगवान और देवी पार्वती को समर्पित एक मंदिर तथा एक नवग्रह स्थली भी है और जहाँ नवग्रह विग्रह अपनी अपनी निर्धारित वनस्पतियों के साथ स्थापित हैं। परम पूज्य स्वामीजी और उनके सेवक वर्ग १२ तारीख को रात्रि ११.३० बजे शंकरालोक पहुँचे। परम पूज्य स्वामीजी का निवास शंकरालोक आश्रम में ही था तथा हमअन्य यात्रियों को कुछ ही दूरी पर आरामदेह “त्रिमंदिर” में ठहराया गया था। 

अगले तीन दिनों में हमारे श्रद्धेय गुरु के दिव्य सान्निध्य में अनौपचारिक संवाद, स्वाध्याय, आशीर्वचन, भावपूर्ण भजन, आदि कार्यक्रम हुए।  यात्रा के हर एक पडाव में ये बहुमूल्य क्षण, स्थानीय साधकों द्वारा पूर्व नियोजित कार्यक्रमों के साथ साथ उपलब्ध थे।
व्यक्तिगत रूप से, मेरे लिए इस यात्रा में कई प्रथम अनुभव थे - परम पूज्य स्वामीजी और उनकी उनके परिचारक वर्ग के साथ मेरी सर्वप्रथम यात्रा और स्वाध्याय में भी पहली बार मेरी उपस्थिति ...  मेरे आनंद की सीमा न रही जब परम पूज्य स्वामीजी ने सुंदर “गौरी दशकं स्तोत्र” पर दो दिन का स्वाध्याय संचालित किया - मैंने सीखा कि शक्ति की आराधना एक साधक के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि उसके अनुग्रह के बिना कोई भी, शिव तक पहुँचने की आशा नहीं कर सकता –जो उसका अंतिम लक्ष्य है । 

स्वाध्याय के बाद, शिल्पा मुदूर पाच्ची द्वारा संस्कृत संभाषण के दो आकर्षक सत्र भी आयोजित किये गए थे। उन्होंने  अपनी अभिनय-शैली द्वारा सरल संस्कृत में एक पौराणिक कहानी का प्रस्तुतीकरण किया जिसके पश्चात् प्रश्न-उत्तर का क्रम चला। मुझे आश्चर्य हुआ कि संस्कृतभाषा का ज्ञान न होने पर भी हम सब इस कहानी को इतनी अच्छी तरह से समझ पाए। शिल्पा पाच्ची का कौशल्य अत्यंत श्रेयस्करऔर प्रशंसनीय है। 

स्वामीजी द्वारा सरल भाषा में दिये गये उपदेश और गहरे अर्थपूर्ण संदेशों ने हर एक संध्या को अनमोल बना दिया, चाहे वह एक अनौपचारिक सत्संग हो या फिर औपचारिक आशीर्वचन। 

हमारे धर्म प्रचारक – डॉ. चैतन्य गुलवाड़ी माम ने संत नामदेव पर कीर्तन प्रस्तुत किया .. यह एक सुखद आश्चर्यजनक अनुभव था क्योंकि हममें से अधिकांश साधक उनके व्यक्तित्व के इस अद्भुत पहलू से अनजान थे। कीर्तनकार की परंपरागत आकर्षक वेशभूषा में, अपने कुशल और भावपूर्ण वर्णन से उन्होंने सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। शंकरालोक में एक अन्य विशेष आकर्षण था - परम पूज्य स्वामीजी द्वारा ९६  यात्रियों के साथ २००२  में की गई कैलाश मानसरोवर यात्रा पर एक प्रस्तुतीकरण, जिसे चैतन्य गुलवाड़ी माम ने भक्तिभावपूर्ण और आकर्षक शैली में अपनी रंजक टिप्पणियों के साथ एक  प्रस्तुतीकरण - “पावर पॉंईंट प्रेजन्टेशन” के माध्यम से दिखाया। 

‘कैलाश’ में रुचि रखने वाले किसी भी व्यक्ति और यहाँ तक कि हर किसी को, जब भी संभव हो यह प्रस्तुतीकरण अवश्य देखना चाहिये क्योंकि २० दिनों की अवधि में पूरी की गई इस पूरी यात्रा में  झेली गई बाधाओं , चुनौतियों , प्रगति  और अंत में यात्रा की सफलता का आंखों देखा हाल इस प्रस्तुतीकरण हमें दिखाता  है जिस पर हम सभी चित्रापुर सारस्वतों को निश्चित रूप से गर्व होना चाहिये । व्यक्तिगतरूप से, इस “पी.पी.टी” से मैंने यह पाया  कि यह परिक्रमा हमारे अपने दैनिक जीवन के समान ही है जो अनेक विषम परिस्थितियों का सामना करता रहता है, परंतु अपने पूज्य गुरु और श्री भवानीशंकर महादेव के प्रति अपनी श्रद्धा के बल से हम हर संकट पर विजय पाकर, अपने जीवन के हर क्षण को अविस्मरणीय बना सकते हैं। 

१५ फरवरी, शंकरालोक में हमारा अंतिम दिन, धर्म सभा के साथ संपन्न हुआ - स्थानीय साधकों के लिए पादुका- पूजन करने का यह एक सुनहरा अवसर था और साथ ही यह  हम सभी के लिए स्वामी नारायण गिरिजी महाराज और परम पूज्य स्वामीजी द्वारा प्रदत्त  आशीर्वचन के श्रवण का एक दिव्य अवसर सिद्ध हुआ। स्वामी नारायण गिरिजी महाराज ने संत सरोवर में व्यतीत किए हुए दिनों का स्मरण करते हुए, संत सरोवर में परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी द्वारा आचरित तपस्या और साधना का विशेष उल्लेख किया। स्वामी नारायण गिरिजी महाराज ने बड़े ही गर्व एवं आत्मीयता से कहा कि उन्होंने पूज्य सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी को अपनी उत्कट साधना से एक आदर्श संन्यासी, आदर्श शिष्य तथा आगे चलकर आदर्श मठाधिपति के रूप में वृद्धिंगत होते हुए देखा है। यह प्रसंग वस्तुतः  हमारे लिए अत्यन्त प्रसन्नता और गर्व का क्षण था। प्रत्युत्तर में हमारे पूज्य स्वामीजी द्वारा प्रदत्त आशीर्वचन तो हम सभी के लिए निश्चित ही एक विनम्र तथा सचेत अभिव्यक्ति की सीख थी । 

हमारी यात्रा का दूसरा गंतव्य राजस्थान में श्री डूंगरगढ़ था। यह यात्रा १६ फरवरी को १४ घंटों में पूरी हुई। यात्रा का यह चरण हम सभी के लिए कई कारणों से रोमांचक था क्योंकि हम सभी पहली बार श्री डूंगरगढ़ आए थे । दूसरे,यह कोई नहीं जानता था कि क्या अपेक्षा रखी जाए। तीसरे, स्थानीय सारस्वतों द्वारा अनेक विशेष कार्यक्रम आयोजित किए गए थे -  शोभा यात्रा तथा परम पूज्य स्वामीजी द्वारा चार याम शिवरात्रि पूजन जो यहाँ पहली बार होने जा रहा था। 

अगले दिन दोपहर २ बजे शोभा यात्रा शुरू हुई। रोचक घटना यह थी  कि हमारे “आमची” साधकों में से ४ साधकों को घोड़ों की और अन्य ४ साधकों को ऊँटों की सवारी करने का अपूर्व  अवसर मिला।  शहर में होने वाली इस लंबी शोभायात्रा के लिए दो सुसज्जित सफेद घोड़ों द्वारा खींचे गए रथ में परम पूज्य स्वामीजी विराजमान थे। चिलचिलाती धूप भी किसी के उत्साह को क्षण भर के लिए कम नहीं कर पाई। अपने गुरु के आगमन का उत्सव मनाने सड़कों पर सैकड़ों साधक उमड़ पड़े । शोभा-यात्रा का कार्यक्रम एक घंटे तक चला। उसके पश्चात्, स्थानीय सारस्वत साधकों द्वारा आयोजित एक धर्म सभा का शुभारंभ दीप-प्रज्वलन और श्री गुरु पादुका पूजन के साथ हुआ, एवं जिसका समापन परम पूज्य स्वामीजी के बहुप्रतीक्षित आशीर्वचन के साथ हुआ।  

अगले दिन, १८ फरवरी को महाशिवरात्रि का पावन पर्व था।  परम पूज्य स्वामीजी द्वारा रात १० बजे से सुबह ५.३०  बजे तक चार याम शिव पूजन का विशेष आयोजन था। हम स्वयं को सौभाग्यशाली मानते हैं कि इस पूजन में भाग लेने का हमें सुअवसर प्राप्त हुआ। उसी सुबह सभी महिलाओं ने पारंपरिक रिवाज के अनुसार अपनी हथेलियों में मेहंदी लगाई। पहली बार इस पूजा में सहभागी होने वाले स्थानीय साधकों का उत्साह तो देखते ही बनता था। उनके मन में अनेक प्रश्न उमड़ रहे थे। हमारे वरिष्ठ साधकों ने सुयोग्य उत्तरों से उत्तर देकर उनका समाधान किया।  शाम होते-होते पूजा का मंच सज चुका था। भगवान भवानीशंकर को मन्त्रोच्चारों सहित समारम्भ पूर्वक मंच पर लाया गया और हमारे वैदिकों ने पूजन संबन्धित सभी आवश्यक तैयारियाँ की। पूज्य स्वामीजी के साथ कई स्थानीय साधकों ने पूजा में सहभाग लिया। हमारे परम पूज्य स्वामीजी ने प्रथम याम का पूजन रात्रि १० बजे प्रारंभ किया। पूजन के समय, परम पूज्य स्वामीजी का दिव्य दर्शन और अनुग्रह प्राप्त करके सभी साधक कृतार्थ हो गए। वातावरण बहुत दिव्य था और सभी ने सर्द रात्रि के बावजूद शिवपूजन के हर क्षण का भरपूर आनंद लिया। 

पहले याम के पूजन के बाद पूज्य स्वामीजी ने अगले तीन यामों तक मौन का आचरण किया। इन तीनों यामों में, श्रीकर बलजेकर माम, वरुण मल्लापुर माम और समीर मासुरकर माम को बारी-बारी से मंत्र पाठ करने का अमूल्य अवसर प्राप्त हुआ और इन्होंने इसे सहजता से, पूज्य स्वामीजी द्वारा किये जा रहे पूजविधियों के साथ बहुत अच्छी तरह से तालमेल बिठाकर निभाया। व्यक्तिगत रूप से इस पूरी रात का जागरण और शिव आराधना में किए गए साधनामय प्रयास से मैं अत्यंत प्रसन्न और प्रभावित था। चौथे याम के संपन्न होने पर, हम सभी को अपने प्रिय गुरु के दिव्य हस्त से तीर्थ प्राप्त करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

१९ फरवरी की शाम को, एक फार्म हाउस और पास के “सैंड-ड्यून्स रेत के टीलों की सैर निर्धारित की गई थी। रेत के टीलों पर चढ़ना और नीचे फिसलना एक निर्मल आनंद था। इसके पश्चात् हम सभी को “बिग्गा बास” नामक जगह के एक विशाल फार्म में ले जाया गया। यह पालक, टमाटर, फूलगोभी, मूली, सरसों आदि की खेती करने वाला एक विशाल परिसर था। राजस्थान में इतने बड़े क्षेत्र में इतनी विस्तृत हरियाली देखना अविश्वसनीय सा था। हमने चूल्हेपर बाजरे का रोटला बनते देखा, जो रात के भोजन में खेत की ताजी सब्जियों के साथ हमें परोसा गया। हम सभी ने सूर्यास्त के समय इस भोजन का आनंद लिया, जिसमें ताजे बाजरे का रोटला, मीठा चूरमा, ग्वार की सब्जी और वाह ....मसालेदार मिर्च-चटनी भी शामिल थी। भोजन के साथ-साथ हम खूब सारा ताजा छाछ भी पीकर संतुष्ट हुए। 

दूसरे दिन, सुबह हमारी महिला साधिकाओं ने नवरात्रि नित्यपाठ और श्री देवी अनुष्ठान किया जिसमें कुछ स्थानीय महिलाएँ भी शामिल हुईं।  पुरुष वर्ग ने गायत्री अनुष्ठान किया। शाम को हमने डूंगरगढ़ में बाजार की सैर की, जहाँ हम में से कई यात्रियों  ने असली राजस्थानी खरीदारी का अनुभव लिया। वापस लौटने के पश्चात् डॉ चैतन्य गुलवाड़ी माम ने "कैलाश - मानसरोवर यात्रा" और "चित्रापुर विरासत" पर प्रस्तुतीकरण किया। दोनों आकर्षक प्रस्तुतियों ने दर्शकों को पूरे समय मग्न  रखा। स्थानीय साधक परम पूज्य स्वामीजी के साथ कैलाश जाने वाले ९६  यात्रियों की संख्या से बहुत प्रभावित हुए। उनके पास मौसम, दूरी, चढ़ान आदि से संबंधित भी कई प्रश्न थे जिनका समाधान चैतन्य गुलवाड़ी माम ने बहुत ही अच्छे तरीके से किया। 

अगली शाम, कई पाठशालाओं से लगभग २०० बच्चों के साथ शिल्पा मुदूर पाच्ची द्वारा आयोजित संस्कृत संभाषण तथा परम पूज्य स्वामीजी के साथ संवाद का भी आयोजन किया गया था। शिल्पा पाच्ची ने हाथ की कठपुतली के साथ एक शेर के शावक और उसके हिरण मित्र इमली की कहानी को अभिनय द्वारा बहुत ही खूबसूरती से सुनाया। अत्यंत प्रसन्नता का विषय यह था कि बच्चों ने कहानी को तुरंत आत्मसात करके, उनके प्रश्नों के बिल्कुल सही उत्तर दिए। एक स्थानीय गुरुकुल के बच्चों ने कुछ संस्कृत श्लोकों का पाठ किया। तत्पश्चात् सभी बच्चों को पूज्य स्वामीजी ने चाकलेट प्रसाद रूप में दी। परम पूज्य स्वामीजी के विशेष अनुग्रह से प्रसाद भोजन की व्यवस्था की गई और सभी बच्चों ने स्वादिष्ट भोजन का आनंद उठाया। 

अगले दिन सुबह २२ फरवरी को हमें श्री डूंगरगढ़ के “आडसर बास” में स्थित "गोपाल गोशाला" ले जाया गया, जहाँ कुछ दर्जन गीर गायें भी थीं। पूज्य स्वामीजी के प्रश्नों का समाधान तुरंत ही गोशाला के मालिक ने किया । हम समापन धर्मसभा में भाग लेने के लिए ठीक समय पर लौटे और परम पूज्य स्वामीजी के दिव्य आशीर्वचन से आशीर्वादित हुए। 

२३ फरवरी को, परम पूज्य स्वामीजी और उनके सेवकों ने हमारे सारस्वत बंधु- भगिनी से अश्रुपूर्ण विदाई लेकर हरिद्वार के लिए प्रस्थान किया- सड़क द्वारा लगभग ५६१ किलोमीटर और १२ घंटे की दूरी पार करनी थी।  

हरिद्वार जाते समय हम सभी ने भिवानी के पास एक मंदिर के परिसर में बैठकर भोजन किया जो श्री डूंगरगड़ के व्यवस्थापकों द्वारा बड़े ही प्रेम से हमारे लिए बनाया गया था।  रात ९.४५ बजे हम हरिद्वार पहुँचे। काशी मठ संस्थान के व्यास आश्रम में रुचिकर “आमचीगेले” रात्रि भोजन के पश्चात्, यात्री अपने अपने निर्धारित कमरों में चले गए। व्यास आश्रम का मुख्य मंदिर भगवान वेदव्यास को समर्पित है। इसके पार्श्व में श्री काशी मठ संस्थान के पूज्य श्रीमत् सुधीन्द्र तीर्थ स्वामीजी की वृंदावन समाधि स्थित है। आश्रम एक खूबसूरत बगीचे में स्थित है जिसमें विभिन्न रंग-बिरंगे मनमोहक फूल खिले हुए हैं। यह आश्रम गंगा नदी के तट पर स्थित है और व्यास आश्रम का अपना गंगा घाट है अतः  वहाँ के भक्तगण दिन में किसी भी समय पवित्र गंगा में डुबकी लगा सकते हैं। श्री गंगा माता और नवग्रहों को समर्पित मंदिरों के युगल मानो इस निजी घाट पर पहरा देते हैं जहाँ पास में ही एक विशाल अश्वत्थ वृक्ष के नीचे अश्वत्थ-नारायण देवता का एक मंदिर स्थित है। 

व्यासाश्रम के पास कई एकड़ कृषि योग्य भूमि है जहाँ कई फसलों, सब्जियों और फलों की खेती की जाती है। मुख्य मंदिर के पास ही हमें कच्चे रुद्राक्ष फलों से लदे दो पूर्ण विकसित रुद्राक्ष के वृक्ष देखने को मिले। हरियाली के बीच अपने दिव्य मंदिरों के साथ पूरा आश्रम परिसर बहुत ही सुसज्जित, शांतिपूर्ण और निर्मल दृष्टिगोचर होता है।

अगली सुबह, काशी मठ के वर्तमान मठाधिपति, श्रीमत् संयमीन्द्र तीर्थ स्वामीजी द्वारा की गई निर्माल्य विसर्जन पूजा और आरती देखने के पश्चात् हम आश्रम की गोशाला देखने पहुँचे। यह गोशाला ५ एकड़ भूमि पर फैली हुई है और इसमें ४० जर्सी गायें और एक दर्जन प्यारे बछड़े रहते हैं। गोशाला के पार्श्व में एक विशाल खेत, घास और सब्जियाँ उगाने के लिए समर्पित है। इसमें सूखी घास रखने के लिए एक छादन (shed) भी स्थित है। इस गोशाला में जितने दूध का उत्पादन होता है, उसका उपयोग व्यास आश्रम में पूजन के साथ-साथ अन्य सभी कार्यों के लिए किया जाता है। काशी मठाधिपति ने हमारे पूज्य स्वामीजी को संपूर्ण भू-संपत्ति का दर्शन करवाया। अच्छी देखभाल एवं स्वच्छता के कारण संपूर्ण क्षेत्र रमणीय दिख रहा था। शाम को एक अनौपचारिक सत्र में, सभी यात्रियों और विश्व सारस्वत सम्मेलन के कुछ आगंतुकों को परम पूज्य स्वामीजी भेंट करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। 

अगले दो दिन, २५ और २६ फरवरी को व्यास आश्रम में विश्व सारस्वत सम्मेलन के तत्त्वावधान में आयोजित अनेक कार्यक्रम प्रस्तुत हुए। इस कार्यक्रम में पूरे भारत से लगभग ३५० से ४०० प्रतिनिधि एवं अन्य आगंतुक सम्मिलित हुए थे। हमने पंजीकरण की औपचारिकताएँ सुबह १० बजे तक पूरी कर लीं, जब दोनों सारस्वत मठाधिपति - श्री चित्रापुर मठ स्वामीजी और श्री काशी मठ स्वामीजी उद्घाटन सत्र के लिए पहुँचे। इस सत्र में वेद घोष, दीप प्रज्वलन और कलाकार श्री विलास नायक द्वारा तत्काल (लाइव)कला का साक्षात् सुंदर प्रदर्शन किया गया। अल्प विराम के बाद, हमारे अपने श्री नितिन गोकर्ण माम (प्रमुख सचिव - लोक निर्माण विभाग, उत्तर प्रदेश) ने “ सारस्वत विरासत की महिमा - परंपरा, गुण और संस्कृति”, इस विषय पर विस्तार से वक्तव्य दिया। यह एक अत्यंत आकर्षक सत्र था, जिसमें प्रतिभागियों ने अंत में अनेक प्रश्न पूछे। अगले वक्ता मेजर जनरल जी.डी.बख्शी थे, जिन्होंने सरस्वती नदी के इतिहास पर उत्साहपूर्ण व्याख्यान दिया। दोपहर के भोजन के पश्चात्, प्रोफेसर अमिताभ मट्टू द्वारा कश्मीर से सारस्वतों के स्थानांतरण के इतिहास पर जानकारी देने के लिए “कश्मीर और सारस्वत” इस विषय पर एक सत्र आयोजित किया गया था। अगला सत्र श्री सिद्धार्थ पई द्वारा “भारतीय अर्थव्यवस्था” की प्रगति में सारस्वत युवा पीढ़ी का योगदान, इस विषय पर था, जिसने सम्मेलन में युवाओं को काफी मग्न रखा। बाद में, श्री दिनेश कामथ माम ने “संस्कृत हमारे इतिहास का एक अनिवार्य अंग” इस विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये । इस सत्र में उन्होंने बताया कि दुनिया की सबसे प्राचीन भाषा - देव भाषा संस्कृत का भारतीय संस्कृति पर इतनी सदियों से किस प्रकार इतना गहरा प्रभाव रहा है। चाय के बाद हमारे श्री दुर्गेश चंदावरकर माम ( शामराव विठ्ठल को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष) ने बैंकिंग क्षेत्र में सारस्वतों के महत्त्व और प्रभाव पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि रोजगार के कई अवसर प्रदान करने में और इतने दशकों तक भारी आय पैदा करने में इस बैंक ने  विशेष भूमिका निभाई है। इसके पश्चात्, “अपना इतिहास जानें” इस विषय से संबंधित एक प्रश्नोत्तरी सत्र था, जिसे श्री नंदमोहन शेणॉय माम ने आयोजित किया था। यह प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम अत्यंत उत्साहपूर्ण और मनोरंजक था क्योंकि यह स्मार्टफ़ोन द्वारा किया गया एक अनोखा डिजिटल अनुभव था। इसके पश्चात्, श्रीमती स्मिता शेणॉय पाच्ची और श्रीमती माया रोहित पाच्ची ने “उत्तर और दक्षिण भारत सारस्वतों के आभूषण और पहनावा” इस विषय पर एक संयुक्त सत्र प्रस्तुत किया। अब समय था - श्री गंगा पूजन का...  हमारे सभी “आमची” साधक और कुछ प्रतिनिधि, दोनों पूज्य मठाधिपतियों द्वारा किए गए गंगापूजन के दर्शन का लाभ उठाने हेतु गंगा घाट के निकट एकत्रित हुए। इस अवसर पर व्यास आश्रम के घाट को आकर्षक ढंग से सजाया गया था और घाट दीपों के प्रकाश से जगमगा रहा था। वैदिकों ने मंत्रों का पाठ किया और दोनों स्वामीजी ने साथ- साथ पूजन किया। गंगा घाट पर गंगा आरती करते हुए उनका दर्शन करना वास्तव में जीवन का एक दुर्लभ, अद्भुत अनुभव था। उपस्थित दर्शक इस दुर्लभ अवसर से मंत्रमुग्ध होकर स्वयं को सौभाग्यशाली और धन्य-धन्य मान रहे थे। संध्या के कार्यक्रम का समापन मंदिरों में आरतियों के साथ हुआ।

दूसरे दिन सम्मेलन में, प्रातःकालीन प्रथम सत्र श्रीमती शेफाली वैद्य द्वारा “सारस्वत आस्था और मंदिर” विषय पर था। यह एक अत्यंत मनमोहक तथा ज्ञानवर्धक प्रस्तुति थी जिसमें ज्यादातर गोवा क्षेत्र और उसके आसपास के सभी सारस्वत मंदिरों के इतिहास को दर्शाया गया था। श्री साहिल किणी माम ने अगले सत्र, “बिल्डिंग अ डिजिटल इंडिया - एक सारस्वत दृष्टिकोण”, में आधार कार्ड के निर्माण के समय, श्री नंदन नीलेकणी माम जैसे सुप्रसिद्ध तकनीकी विशेषज्ञ के साथ हुए अपने अनुभवों को साझा किया। इस सत्र में उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों से आए हुए सरकारी अधिकारियों और निजी कंपनी के कर्मचारियों द्वारा संगठित होकर एक साथ परियोजनाएँ बनाकर कार्य करने की सफलता पर एक अत्यंत दिलचस्प व्याख्यान दिया। अगला सत्र, योगाचार्य श्री राघवेंद्र पई माम द्वारा “योग और आनंद” पर था। उन्होंने भारत में प्रचलित योग के प्राचीन तरीकों पर विस्तार से जानकारी देकर, मनुष्यों को आनंदित और स्वस्थ रखने में योग किस प्रकार सहायता करता है, यह समझाया। इसके पश्चात् “सारस्वत पहचान और एकीकरण” पर एक पैनल सामुदायिक चर्चा हुई जिसमें हमारे श्री प्रवीण कडले माम, श्री किशोर मासुरकर माम, डॉ राम सारस्वत माम, श्री गिरीश सारस्वत माम आदि ने भाग लिया। “सारस्वत युवाओं का समावेश तथा भविष्य की योजनायें”, इस विषय पर एक अन्य पैनल चर्चा हुई, जिसमें अन्य प्रतिनिधियों के साथ हमारे श्री उदय गुरकर माम भी सम्मिलित थे। चाय के विराम के बाद, दोनों स्वामीजी समापन सत्र में  आशीर्वचन के लिए मंच पर पधारे। मधुर हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत और भक्ति संगीत के कार्यक्रम के साथ सम्मेलन का समापन हुआ। 

२७ फरवरी की सुबह, हमारे यात्रियों को मनसा देवी मंदिर के दर्शन के लिए ले जाया गया, जो एक पर्वत पर है और वहाँ एक रज्जु पथ (ropeway) के माध्यम से पहुँचा जा सकता है। ऋषिकेश की एक छोटी यात्रा की भी योजना बनाई गई थी जहाँ हमारे यात्रियों को शत्रुघ्न घाट  पर गंगा-दर्शन और राम झूला के दर्शन प्राप्त हुए। हमने गंगाजल से प्रोक्षण किया और श्री गंगा स्तोत्रम् का पाठ किया। तत्पश्चात् हमने ऋषिकेश के बाजार में थोड़ी सैर की और दोपहर में स्वादिष्ट भोजन से तृप्त होकर, व्यास मंदिर में शाम की आरती में सहभागी होने के लिए हरिद्वार लौट आए। 

२८ फरवरी की सुबह, हमारे परम पूज्य स्वामीजी और काशी मठ स्वामीजी दोनों को नवग्रह मंदिर, गंगा मंदिर और अश्वत्थ-नारायण मंदिर में पूजा अर्पण करते देख हम सभी यात्री धन्य हुए। हमारे कुछ साधक-साधिकाओं ने भोजनशाला में सब्जियाँ और फल काटने और भोजन परोसने में स्वेच्छा से सेवा की। शाम को हरिद्वार में कुछ मंदिरों के दर्शन करने की भी व्यवस्था की गयी थी। शाम को ४ बजे तक हम सब बस में सवार हो गए और सबसे पहले भगवान शिव को समर्पित कनखल में दक्षेश्वर महादेव मंदिर की ओर चल पड़े । यह एक सुंदर और लोकप्रिय मंदिर है - जिसे शक्ति पीठ भी माना जाता है और जिसे सन् १८१० में रानी धनकौर ने बनवाया था। इसके पश्चात् हमने कनखल में स्थित श्री अवधेशानंद  महाराज के हरिहर आश्रम का दौरा किया। आश्रम में प्रतिष्ठित मुख्य देवता पारद शिव-लिंग का वजन लगभग १५० किलोग्राम है। शाम का अंतिम पड़ाव था हरकी पौड़ी (भगवान विष्णु के चरण), हरिद्वार में गंगा नदी के तट पर एक घाट जो शाम को सुंदर सामूहिक गंगा आरती के लिए एक बहुत ही लोकप्रिय दर्शनीय स्थल है। यहाँ आरती के लिए रुकना हमारे लिए संभव नहीं था, परंतु यहाँ वातावरण में इतनी शांति और दिव्यता रहती है कि कोई भी व्यक्ति यहाँ बिना कठिनाई के दीर्घ समय तक बैठ सकता है। व्यास आश्रम लौटने पर कुछ भजनों के साथ अनौपचारिक सत्र में हमने अपने परम पूज्य स्वामीजी के साथ थोड़ा समय व्यतीत किया। 

१ मार्च, वास्तव में एक दिव्य संयोग था - हमारे गुरुस्वामीजी, परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी (तृतीय) का शिष्य स्वीकार दिवस तथा वेदव्यास मंदिर में स्थापित भगवान वेदव्यासजी के विग्रह की प्रतिष्ठा की वर्धंती भी। सुबह महिलाओं द्वारा नवरात्रि नित्यपाठ और देवी अनुष्ठान तथा पुरुषों द्वारा गायत्री अनुष्ठान संपन्न हुआ। सुबह के उपाहार के पश्चात् हम सभी ने दोनों मठाधिपतियों द्वारा आचरित भगवान वेदव्यास के दिव्य अभिषेक और पूजन का लाभ उठाया। परम पूज्य सुधीन्द्र तीर्थ स्वामीजी की समाधि में स्थित गंध-लेपित वीरांजनेय का दर्शन एक अत्यंत अद्भुत दृश्य था। इसके पश्चात् दोनों पूज्य मठाधिपतियों को पट्टकाणिक गुरु-दक्षिणा समर्पित करके हमने उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया। दोपहर १२.३० बजे श्री वेदव्यास मंदिर में दोनों मठाधिपतियों की उपस्थिति में लघु विष्णु हवन की पूर्णाहुति निर्धारित की गई थी। हमने भोजनशाला में फलाहार किया और महा-आरती के पश्चात् दोपहर का भोजन किया। शाम को व्यास आश्रम में दोनों दिव्य मठाधिपतियों के पावन सान्निध्य में धर्मसभा संपन्न हुई। 

२ मार्च की सुबह, पुरुष वर्ग के लिये चैतन्य गुलवाड़ी माम और महिला वर्ग के लिये शरयू हल्दीपुर पाच्ची द्वारा प्राणायाम और निनाद के सत्र रखे गए। सभी यात्रियों ने सरल किंतु प्रभावी ढंग से दर्शाये और समझाये गए व्यायाम, कपालभाति और भस्रिका प्राणायाम के बाद निनाद के साथ इन उत्कृष्ट सत्रों का लाभ लिया। उसके पश्चात् काशी मठाधीश स्वामीजी, हमारे पूज्य स्वामीजी को व्यास आश्रम मंदिर परिसर में सब्जी इत्यादि का अवलोकन कराने ले गए। सभी यात्री अगली सुबह की वापसी यात्रा की तैयारी  में जुट गए। 

३ मार्च को सभी यात्रियों ने जल्दी ही उपाहार के बाद अपना सामान बस में चढ़ाया। हम सभी यात्री अपने अगले गंतव्य पुष्कर के लिए ६६५ किलोमीटर और ११ घंटे की दूरी की अपनी अगली लंबी यात्रा पर परम पूज्य स्वामीजी और उनके सेवकों के वाहन के पीछे रवाना हो गए ।

४ मार्च की सुबह को, तीर्थ स्थली पुष्कर में हमने पुष्कर झील के इंदरघाट का दर्शन किया। पवित्र पुष्कर सरोवर के शीतल जल में मन्त्रोच्चारण के साथ  विधिवत् डुबकी  लगाने के पश्चात् पूज्य स्वामीजी ने सरोवर के तट पर पूजा की। तत्पश्चात् संकरी गलियों से गुजरते हुए पास के तीन मंदिरों के हमने दर्शन किए अटमटेश्वर मंदिर, प्राचीन रंगजी मंदिर और नूतन रंगजी मंदिर।

भीलवाड़ा के स्थानीय सारस्वतों के निमंत्रण पर हम सभी ने अगली सुबह स्वामीजी के साथ लगभग १५० किलोमीटर दूर भीलवाड़ा की यात्रा की। लगभग २५० - ३०० सारस्वत भक्तों ने परम पूज्य स्वामीजी का स्वागत बड़े उत्साह एवं हर्षोल्लास से किया। एक औपचारिक स्वागत के पश्चात् मंच पर परम पूज्य स्वामीजी द्वारा आशीर्वचन के साथ सभा का समापन किया गया इस सभामें, पूज्य स्वामीजी ने एकत्रित हुए ब्राह्मणों की मंडली को - जो निश्चित ही अपने ब्राह्मणत्व पर गर्व करते हैं- “विद्यया, श्रद्धया, उपनिषदा” इस मंत्र का अर्थ स्पष्ट रूप से समझाया। ये सारस्वत भक्त, "हमारे सारस्वत गुरुजी" के साथ नया संबंध जोड़कर सहज ही रोमांचित हो उठे थे। 

पुष्कर में तीसरे दिन हम सभी प्रात:काल ४ बजे संपूर्ण विश्व में स्थित एकमात्र ब्रह्माजी के मंदिर के प्रांगण में पहुंचे । यह मंदिर १४ वीं शताब्दी की संरचना है जिसमें देवी गायत्री के साथ चतुर्मुख भगवान ब्रह्माजी की मूर्ति विराजमान है। ब्रह्ममुहूर्त में पुष्कर सरोवर में स्नान के बाद परम पूज्य स्वामीजी का मंदिर में आगमन हुआ। ब्रह्मा मंदिर के महंतजी ने पूज्य स्वामीजी का स्वागत किया और हमें इस मंदिर के इतिहास के बारे में जानकारी दी। प्रतिदिन सुबह साढे पाँच बजे यहाँ ब्रह्माजी की आरती होती है| आज के दिन, हमारे पूज्य स्वामीजी के पावन हस्तों से, महंत जी ने ब्रह्माजी की आरती करायी और सभी साधकों ने स्वादिष्ट कुल्हड़ वाली चाय का प्रसाद ग्रहण किया, जिसमें अभिषेक जल और अभिषेक दूध मिलाया गया था। 

उसी शाम स्थानीय आयोजकों और पुष्कर के कुछ गणमान्य व्यक्तियों द्वारा परम पूज्य स्वामीजी का अभिनंदन किया गया। पूज्य स्वामीजी द्वारा एक प्रभावशाली आशीर्वचन में श्री देवी अनुष्ठान के तीनों मन्त्रों की अर्थ सहित व्याख्या को सुनकर श्रोतागण अत्यंत प्रसन्न एवं कृतार्थ हुए। पूज्य स्वामीजी ने गुरु-उपदेश, सह-साधकों से सत्संग, शिष्य का बुद्धिपूर्वक चिंतन तथा समय का प्रभाव, इस विषय के महत्व को समझाते हुए समारोह का समापन किया। अंत में पूज्य स्वामीजी ने तीर्थ-वितरण करके सभी साधकों को आशीर्वाद दिया। 

अगले दिन ७ मार्च की सुबह, पूज्य स्वामीजी और सभी यात्रियों ने १८०  किलोमीटर और लगभग ५ घंटे की दूरी पर जोधपुर तक की यात्रा तय की। 

शाम को संवित् धाम में संवित् साधकों द्वारा आयोजित धर्म सभा में परम पूज्य स्वामीजी का बड़े ही हर्षोल्लास से स्वागत किया गया। पूज्य स्वामीजी ने अपने आशीर्वचन में, संवित् धाम की अधिष्ठात्री देवी गिरिराजेश्वरी की स्तुति में रचित 'जयति गिरिराजेश्वरी' भजन का अर्थ समझाया। उन्होंने नई प्रेरणा प्राप्त करने के लिए व्यवहार में गुरु अनुसंधान के साथ-साथ अनुस्मरण की निरंतर आवश्यकता पर बल दिया। धर्मसभा का समापन पूज्य स्वामीजी द्वारा तीर्थ-वितरण से हुआ। 

८ मार्च को सभी साधक सुबह बड़े उत्साह के साथ संवित् धाम पहुँचे क्योंकि उस दिन, बहुप्रतीक्षित अतिरुद्र यज्ञ का शुभारंभ होने जा रहा था। हमारे कई “आमची” साधकों ने “शाकल्य सेवा”और “संकल्प सेवा” के लिए अपना पंजीकरण करवाया था। पहला  विधान  'गुरु-आज्ञा व अनुमति’ को प्राप्त करने का था। पंडित नवरतन अग्निहोत्रीजी ने हमारे परम पूज्य स्वा मीजी और नारायण गिरि स्वामीजी को अतिरुद्र की प्रक्रिया के विषयमें विवरण देकर यज्ञ प्रारंभ करने की अनुमति माँगी। अगला कार्यक्रम था - भाग लेने वाले सभी यजमानों, साधकों के शुद्धीकरण की प्रक्रिया। शुद्धीकरण की प्रक्रिया दस द्रव्यों - उदा. भस्म, गंध, रेत, हल्दी, कुमकुम, पंच-गव्य इत्यादि के साथ संपन्न हुई। तत्पश्चात् शाकल्य सेवा के लिए पंजीकृत सभी महाजनों, यजमानों से यज्ञ-शाला में प्रवेश करने का अनुरोध किया गया। यज्ञ का शुभारंभ 'अरणि-मंथन' अर्थात्  यज्ञ के लिए अग्नि प्रज्वलित करने का अत्यंत उत्कृष्ट पारंपरिक तथा वेदोक्त विधान के साथ हुआ। परम पूज्य स्वामीजी और नारायण गिरि स्वामीजी की उपस्थिति में 'अरणि-मंथन' संपन्न  हुआ। प्रथम दिन रुद्र का एक आवर्तन दोपहर में संपन्न हुआ। सुबह परम पूज्य स्वामीजी ने 'शिवानंदलहरी' के चयनित से चुने हुए  श्लोकों पर स्वाध्याय संचालित किया, जिससे सभी की बुद्धि को प्रचोदन मिला और हम एकाग्रचित्त  होकर अगले पाँच दिनों तक इस पवित्र यज्ञ में सहभागी होने के लिए पूरी तरह से तैयार हो गए।

 ९ मार्च - हमारे पूज्य स्वामीजी के स्वाध्याय का दूसरा दिन....पूज्य स्वामी जी ने हमें श्लोकों के गहरे स्तरों में प्रवेश करवाया।  स्वाध्याय में लिए गए शिवानंदलहरी के श्लोकों के माध्यम से साधकों को अनेक व्यावहारिक मार्गदर्शन प्राप्त हुए और सभी साधक स्वाध्याय में सहभागी होने के लिए प्रोत्साहित हुए। इस दौरान वहाँ यज्ञशाला में दूसरा और तीसरा आवर्तन पूर्ण हुआ। एक दर्जन पंडितों द्वारा बड़ी स्फूर्ति के साथ रुद्री पाठ और  ४१ हवन कुंडों में दी जाने वाली आहुति की ध्वनि - स्वाहाकार के प्रभाव ने एक ऐसा वातावरण बना दिया, जिसका शब्दों में वर्णन करना असंभव सा है। यज्ञ की इस अद्भुत अनुभूति में उपस्थित हर एक साधक पूर्ण रूप से तन्मय हो गया। परम पूज्य स्वामीजी के सान्निध्य में सत्संग के साथ सायंकाल के कार्यक्रम का समापन हुआ।

१० मार्च की सुबह, परम पूज्य स्वामीजी द्वारा संचालित स्वाध्याय के तीसरे सत्र के लिए सभी साधक शीघ्रता से एकत्रित हुए। अतिरुद्र हवन में रुद्रीपाठ के चौथे और पाँचवें आवर्तन भी पूर्व योजना के अनुसार पूर्ण किए गए। छठवें आवर्तन का पाठ दोपहर में किया गया। शाम को पूज्य स्वामीजी ने श्री देवी पूजन किया जिसमें नारायण गिरि स्वामीजी तथा अन्य सभी साधक सहभागी हुए। पूजन के प्रभाव से सभी साधकों को एक दिव्य अनुभूति प्राप्त हुई। इसके पश्चात् वहाँ उपस्थित सभी महात्माओं से आशीर्वचन के लिए बिनती की गयी। परम पूज्य स्वामीजी ने इस बात पर विशेष जोर दिया कि गुरु का अनुग्रह तो शिष्यों पर निरंतर रहता ही है, परंतु यह हमारे जीवन में तभी प्रकट होगा जब हम अपनी साधना में दृढ़ और अटल रहेंगे। 

११ मार्च की सुबह, शरयू हल्दीपुर पाच्ची द्वारा तरु सेना के लिए व्यायाम, प्राणायाम और निनाद का सत्र आयोजित किया गया। वहाँ यज्ञ मंडप में सुबह अतिरुद्र का ७ वाँ आवर्तन संपन्न हुआ तथा दोपहर में ८ वाँ आवर्तन। 

शाम को जोधपुर के श्री जूनाखेड़ापति हनुमान मंदिर में श्री चित्रापुर मठाधिपति परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी  के सम्मान में एक भव्य नागरिक अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया। “वशिष्ठ संगीत मंडली” के कलाकारों ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। जोधपुर की महारानी, रानी हेमलता राजे ने परम पूज्य स्वामीजी और नारायण गिरि स्वामीजी को सम्मानित किया। इसके पश्चात् अन्य स्थानीय गणमान्य व्यक्तियों और संस्थानों के प्रमुखों ने श्री चित्रापुर मठाधिपति परम पूज्य सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी को सम्मानित किया। अन्य कई संस्थाओं के गणमान्य प्रतिनिधि वहाँ उपस्थित थे और पूज्य स्वामीजी को सम्मानित करने के लिए अति उत्सुक थे। समारोह में उपस्थित अन्य महात्माओं का भी अभिनंदन किया गया। पूज्य नारायण गिरि स्वामीजी द्वारा भावपूर्ण प्रवचन के पश्चात् एक संस्कृत विद्वान द्वारा लिखित मानपत्र परम पूज्य स्वामीजी को अर्पण किया गया। परम पूज्य ईश्वरानंद गिरि स्वामीजी की इच्छा के अनुसार उनकी एक दिव्य स्फटिक और रुद्राक्ष से गुँथी माला का नारायण गिरि स्वामीजी द्वारा परम पूज्य स्वामीजी को समर्पण, इस सायंकालीन कार्यक्रम का प्रधान आकर्षण था। प्रासादिक माला को परम पूज्य स्वामीजी ने अत्यंत विनम्रता एवं हर्ष से स्वीकार किया। भव्य समारोह का समापन, पूज्य स्वामीजी के बोधपूर्ण आशीर्वचन के साथ हुआ। 

१२ मार्च - अतिरुद्र का अंतिम दिन, ९ वाँ आवर्तन प्रारंभ हुआ। पूर्णाहुति का समय सायंकाल का था। पूर्णाहुति एक विस्तृत धार्मिक विधि है। पूर्णाहुति के पूर्व दोपहर के सत्र में अन्य देवी देवताओं को समर्पित आहुतियाँ हुईं। कुल मिलाकर नौ आवर्तनों में १५० पंडितों, यजमानों ने आहुतियाँ दी। सायंकाल में परम पूज्य स्वामीजी तथा नारायण गिरि स्वामीजी के दिव्य हस्तों द्वारा पूर्णाहुति संपन्न हुई। अन्य आमंत्रित महात्मा भी पूर्णाहुति में उपस्थित थे। तत्पश्चात् अतिरुद्र यज्ञ संकल्प की सफल समाप्ति मंगलारती से हुई। संवित् धाम में “वसिष्ठ संगीत मंडली” के स्वागत गान से समापन धर्मसभा का शुभारंभ हुआ। सभी स्थानीय गणमान्य व्यक्तियों और प्रायोजकों को, जिन्होंने ५ दिवसीय आयोजन में योगदान दिया था, परम पूज्य स्वामीजी और नारायण गिरि स्वामीजी को सम्मानित करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। श्री चित्रापुर मठ की ओर से हमारे धर्मप्रचारक डॉ. चैतन्य गुलवाड़ी माम और कृष्णानंद हेबलेकर माम ने सभा में उपस्थित नारायण गिरि स्वामीजी और अन्य महात्माओं को माल्यार्पण कर प्रणाम किया। तत्पश्चात् संवित् धाम की अध्यक्षा, श्रीमती वसंत उषा रानीजी ने परम पूज्य स्वामीजी, नारायण गिरि स्वामीजी और अन्य महात्माओं को सम्मानित किया। पूज्य स्वामीजी और नारायण गिरि स्वामीजी द्वारा बहुप्रतीक्षित आशीर्वचन के समापन के बाद, पूज्य स्वामीजी ने अतिरुद्र यज्ञ के आयोजन और सफलतापूर्वक संचालन में सहभागी सभी प्रमुख आयोजकों एवं संचालकों को प्रसाद दिया। इस अद्वितीय, महत्त्वपूर्ण कार्यक्रम के समापन के पूर्व, श्री नारायण गिरि स्वामीजी ने अगली बार कोटि रुद्र यज्ञ आयोजित करने की योजना का सुझाव दिया। इस प्रकार संवित् धाम जोधपुर की अत्यंत पवित्र, प्रेरक और शिक्षाप्रद यात्रा संपन्न हुई।

अगली सुबह १३ मार्च को हम सभी इस यात्रा के अपने अंतिम गंतव्य - माउंट आबू में स्थित संत सरोवर के लिए, परम पूज्य स्वामीजी और नारायण गिरि स्वामीजी के वाहनों के पीछे-पीछे रवाना हुए। रास्ते में हमें जोधपुर के कुछ खूबसूरत स्मारकों को देखने का सौभाग्य मिला। सूची में सबसे पहले था “मंडोर गार्डन” - ऐतिहासिक संग्रहालयों, मंदिरों, फव्वारों और बहुत सारे बंदरोंवाला एक बड़ा बगीचा। ऐसा कहा जाता है कि राव जोधा द्वारा मेहरानगढ़ किले के निर्माण से पहले मंडोर जोधपुर की राजधानी थी। हम यात्रियों ने उस युग में बने मंदिरों, शिलालेखों, चित्रों और खिलौनों की बहुत सारी तस्वीरें खींच लीं। हमारा अगला पड़ाव मेहरानगढ़ किला था। यह किला राव जोधा ने १४ वीं शताब्दी में १२०० एकड़ भूमि पर जोधपुर में एक पहाड़ी की चोटी पर बनाया था। कुछ मील दूर से भी हम अपनी बस से इस शानदार संरचना को देख सकते थे। यहाँ हमने एक गाइड सुश्री शेखावत की सहायता से कुछ घंटे भ्रमण करते हुए बिताए। गाइडजी ने महल की हर वस्तु के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। हममें से कुछ लोगों ने स्मरणार्थ दुकान से चूड़ियाँ, किताबें और चित्रों की खरीदारी भी की।

अंत में हम देवी चामुंडा के मंदिर गए और दर्शन किया, जो कई सदियों से जोधपुर शाही परिवार की 'इष्ट देवता' या आराध्य  देवता हैं। यह मंदिर महल की दीवारों के भीतर स्थित है क्योंकि राव जोधा इस विग्रह को मंडोर गार्डन से नए किले में स्थापित करने के लिए लेकर आये थे। हम सभी यात्रियों ने देवी के सामने नतमस्तक होकर उनके आशीर्वाद के लिए प्रार्थना की। जोधपुर के मूछवाला उपाहार गृह में  दोपहर के पेटभर भोजन के बाद, हम माउंट आबू के लिए निकल पड़े और रात को वहाँ पहुँचे।

१४ मार्च से १९ मार्च तक, हर सुबह और शाम, संत सरोवर आश्रम में श्री सोमनाथ महादेव मंदिर में पूजा और आरती देखने का हमें सौभाग्य प्राप्त हुआ। दोपहर के भोजन से पूर्व, महिला वर्ग ने ‘साधना पंचकम्’ के साथ श्री देवी अनुष्ठान और पुरुष वर्ग ने गायत्री अनुष्ठान किया। एक शाम, हम सभी ने आशा अवस्थी पाच्ची द्वारा संचालित  "यात्रा" इस विषय पर एक विमर्श में भाग लिया। सभी प्रतिभागियों ने खुलकर विचार साझा किए। सभी के सक्रिय सहभाग के कारण यह विमर्श बहुत ही आकर्षक, सूचनात्मक और संवादात्मक रहा क्योंकि हमने यात्रा शुरू करने के उद्देश्य पर गहराई से विचार विमर्श किया और साथ-साथ अनेक सबक भी सीखे। मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से यह एक रहस्योद्घाटन ही था कि यात्रा क्यों आयोजित की जाती है और  यात्रा का उद्देश्य और ध्येय क्या होता है। हमें नारायण गिरि स्वामीजी के साथ एक अनौपचारिक सत्संग का भी सौभाग्य प्राप्त हुआ।

 १५ मार्च को हमने दिलवाड़ा मंदिर की यात्रा की, जो ११ वीं  शताब्दी के पाँच श्वेतांबर जैन मंदिरों का एक समूह है और ये मंदिर ज्यादातर सफेद संगमरमर से बनाये गये हैं। सभी यात्रियों ने इन सुंदर और जटिल नक्काशीदार संरचनाओं की सराहना की। शाम को हम सभी भगवान शिव के श्री धुलेश्वर महादेव मंदिर गए। मंदिर से प्रस्थान करने के पूर्व नारायण गिरि स्वामीजी की अनुकंपा से सभी यात्रियों को स्वादिष्ट आइसक्रीम खिलाई गई। लौटते समय सुरम्य सुंदर “नक्की झील” के आसपास, हमें खरीदारी करने का समय मिला, यह स्थान नौकाविहार, उपाहार और रम्य सूर्यास्त का आनंद उठाने हेतु उपयुक्त था। 

१६ मार्च की सुबह, श्री गुरुशिखर और श्री अचलेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन हेतु सुनिश्चित की गई थी। श्री गुरुशिखर मंदिर में हमने श्री गुरु पादुका स्तोत्र और श्री परिज्ञानाश्रम त्रयोदशी का पाठ किया। माना जाता है कि ९ वीं शताब्दी के आसपास निर्मित अचलेश्वर महादेव मंदिर भगवान शिवजी के पैर के अंगूठे के चारों ओर बनाया गया था। यहाँ हम सभी यात्रियों को जलाभिषेक करने का दिव्य अवसर मिला। हमारे चैतन्य गुलवाड़ी माम ने सभी यात्रियों की ओर से मंदिर में एक छोटा सा दान दिया। लौटकर हम पूज्य स्वामीजी द्वारा  संचालित “अर्धनारीश्वर स्तोत्रम् ” के स्वाध्याय में सहभागी हुए। उसी शाम हमने निकट के गिरीश्वर महादेव मंदिर जाकर अष्टमूर्ति उपासना की।

१७ मार्च को सभी आमची यात्री और कुछ संवित् तरु युवा संवित साधकोंको “तरु” संबोधित किया जाता है एवं साधक नैसर्गिक वातावरण में कुछ समय बिताने के लिए लगभग १.५ किलोमीटर की दूरी पर स्थित “टेबल टॉप फॉरेस्ट टेरेन” देखने गए। टेबल टॉप हिल के शिखर से नीचे का दृश्य अत्यंत रमणीय दिखाई दे रहा था और हम सभी कुछ मिनटों के लिए शांति से ध्यान में बैठने के लिए उत्सुक थे। आमची युवा और संवित् तरुओं  के संबंधों को अधिक दृढ़ होते देख हम हरषा रहे थे। व्यक्तिगत रूप से मैंने महसूस किया कि यह क्षण तन और मन से प्रकृति के साथ जुड़ने का एक सुनहरा अवसर था। हर उम्र के साधक ने इस छोटे से छोटी सी निसर्गयात्रा का आनंद लिया और पूज्य स्वामीजी के स्वाध्याय में सहभागी होने के लिए तरोताजा होकर समय पर आश्रम लौटे। दोपहर में अर्बुदा देवी मंदिर के दर्शन का कार्यक्रम था। इस मंदिर तक पहुँचने के लिए पहाड़ पर ३५० सीढ़ियां हैं और रास्ते में यात्रियों की चीजें छीनने की कोशिश करनेवाले कई शरारती बंदर ! मंदिर के प्रवेशद्वार से गर्भगृह में प्रवेश करने के लिए झुककर प्रवेश करना पड़ता है। अर्बुदा देवी मंदिर में प्रार्थना करने के पश्चात्, हम सभी सायंकाल की आरती के लिए संत सरोवर पहुँचे। 

१८ मार्च हम सभी के लिए अत्यंत विशेष दिन था। परम पूज्य स्वामी ईश्वरानंद गिरिजी महाराज के समाधि स्थल काचोली की यात्रा सुनियोजित थी आयोजित की गयी थी । काचोली गाँव पहुँचने के लिए हमने लगभग ४० किलोमीटर की दूरी तय की। काचोली आश्रम की देखभाल करने वाले साधक श्री निरंजन सोनीजी (कालू भाई) ने हमारा स्वागत किया। दिव्य समाधि के सामने कुछ क्षणों के लिए शांत बैठकर हमने जप किया।  

समाधि स्थल पर चारों ओर काले शालिग्राम पत्थर से निर्मित भगवान शिव की ८ नक्काशियाँ (अष्टमूर्ति) हैं। यह मंदिर शुद्ध श्वेत संगमरमर से निर्मित है। कालू भाईजी ने हम यात्रियों की ओर से एक आरती की व्यवस्था की और कुछ ग्रुप फोटो लेने में हमारी सहायता की। इस आश्रम का महत्त्व समझाते हुए उन्होंने बताया कि बड़े स्वामीजी का, एकांत अथवा सर्दियों के मौसम में निवास इस आश्रम में रहता था। इस आश्रम के एक ओर अरावली पर्वत है और दूर से धूलेश्वर मंदिर भी दिखाई देता है। कालू भाईजी ने हमें यह भी बताया कि इस जगह की जानकारी हर किसी को नहीं थी। यह स्थान बड़े स्वामीजी को बहुत पसंद था अतः  स्वामीजी ने अपनी समाधि के लिए इस स्थान का चयन किया था क्योंकि वे चाहते थे कि लोग इस स्थान की यात्रा करें और इसके सुंदर और शांत वातावरण का लाभ उठाएं। हमें यह भी बताया गया कि समग्र समाधि की संरचना और पूरी बनावट की परियोजना पूज्य बड़े स्वामीजी ने स्वयं ध्यानपूर्वक बनाई थी।

व्यक्तिगत रूप से मुझे लगा कि अगर हम इन विषयों पर कुछ मनन करें तो हम स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि सभी ज्ञानी महात्माओं की सोच और दृष्टि कितनी अलग है और उनका दृष्टिकोण सामान्य लोगों की तुलना में कितना व्यापक है। इस समाधि की ऊर्जा और अनुभूति स्पष्ट रूप से एक अलग स्तर पर थी। जैसा कि नारायण गिरि स्वामीजी दोहराते रहते हैं कि पूज्य बड़े स्वामीजी अभी भी आसपास हैं, हम उनके सान्निध्य को बाह्य और आंतरिक रूप से खोजें और अनुभव करें। काचोली में स्वादिष्ट नाश्ते के बाद, हम संत सरोवर लौट आए क्योंकि उस सुबह माउंट आबू के स्थानीय लोगों का परम पूज्य स्वामीजी और नारायण गिरि स्वामीजी से भेंट करने  का कार्यक्रम था। दोपहर में, महात्माओं के लिए भंडारे का भी आयोजन किया गया था। कुछ युवाओं और तरुओं ने स्वेच्छा से भंडारे में भोजन परोसा। हमारे मंगेश चिक्करमने माम इस भंडारे के प्रायोजक थे। उन्होंने इस अवसर पर उपस्थित सभी महात्माओं का स्वागत करते हुए उन्हें पारंपरिक रीति से तिलक लगाकर, काणिका दी। भंडारे में हमारे युवाओं और तरुओं ने पूरे समय भागदौड़ करके उपस्थित सभी महात्माओं को भोजन परोसने और सभी की देखभाल करने का सराहनीय कार्य किया। भंडारे के पश्चात् अन्य सभी साधकों ने स्वादिष्ट भोजन का सेवन किया। संत सरोवर में यह हमारा अंतिम दिन था और उस रात हम सब भारी मन से अपने कमरों में लौटे ताकि अगली सुबह मुंबई और कार्ला की वापसी यात्रा के लिए तैयारी शुरू कर सकें।

१९ मार्च की सुबह बस में सामान चढा कर हम अपने होटल से संत सरोवर के लिए निकल पड़े। बिदाई लेते समय सभी यात्री - युवा, तरु और संत सरोवर के साधकों ने एक दूसरे के संपर्क में रहने हेतु दूरध्वनि क्रमांक लिए। व्यक्तिगत रूप से, मुझे एक मिश्रित अनुभूति हुई क्योंकि एक ओर हमारी यात्रा अपने अंतिम चरण में थी और हम ४० दिनों के बाद अपने घर जा रहे थे । किंतु दूसरी ओर, इतने लंबे समय तक साथ रहते हुए, एक दूसरे की देखभाल करते हुए हम सभी मानो एक कुटुंब जैसे हो गए थे। अंततोगत्वा हमारे परम पूज्य स्वामीजी के संत सरोवर से कार्ला की वापसी यात्रा के लिए प्रस्थान का समय आ गया था।  अत्यधिक भारी मन से हम सभी ने अपने पूज्य स्वामीजी से आज्ञा ली - जिनके निरंतर सान्निध्य में, पिछले ४० दिनों से उनके  उपदेशों को सुनकर, भजन गाकर, अनौपचारिक सत्संगों में सहभागी होकर संतसरोवर में दोपहर और रात्रि के भोजन का, हम आनंद लिया करते थे।

पूज्य स्वामीजी और उनके सेवकों के प्रस्थान के पश्चात् हम सभी यात्रियों ने अपने बस के दोनों विनम्र चालक -जिन्हें हमने स्नेह से “हीरो” कहकर पुकारते थे- अनिमय और मंजु को सम्मानित किया। इन दो युवाओं ने पिछले ४० दिनों से किसी भी मौसम, और किसी भी  समय में अलग-अलग राज्यों से गुजरते हुए बस चलाई, हमेशा सहयोग और विनम्रतापूर्वक व्यवहार किया और कभी भी शिकायत नहीं की। शायद हमारी बस ने भी उनके भद्र व्यवहार से प्रेरणा ली और ७ गंतव्य स्थल, ४० दिन और  ६०००  कि.मी. की यात्रा के दौरान कभी भी कोई समस्या नहीं आने दी। यात्रियों की ओर से उन दोनों को इस सराहनीय कार्य के लिए एक उदार राशि पुरस्कार रूप में दी गई।

 “ॐ नमः पार्वती पतये हर हर महादेव” की जयजयकार के साथ, हमारी बस माउंट आबू से कार्ला की ओर वापसी की यात्रा पर चल पड़ी। हम सुबह ९ बजे संत सरोवर से निकले और रात १२.३० बजे मुंबई पहुँचे, जहाँ हम में से कुछ यात्री बस से उतर गए। परम पूज्य स्वामीजी और उनके सेवकों के कार्ला पहुँचने के ठीक २० मिनट पश्चात्,  प्रात: काल ३ बजकर ४५  मिनट पर शेष यात्री कार्ला पहुँचे। सुबह ९.३० बजे, हमारे तीन सहयात्रियों के साथ हमारी बस रात में १ बजे शिराली मठ पहुँची। इस तरह हमारी उत्तर भारत की यात्रा संपन्न हुई - गुरु सान्निध्य में जीवन का एक अद्भुत, अद्वितीय अनुभव !

इस चिरस्मरणीय यात्रा के लिए, सभी यात्रियों की ओर से, मैं परम पूज्य स्वामीजी के चरणकमलों में अत्यंत विनम्रता से कोटि  कोटि प्रणाम समर्पित करता हूँ। यह केवल पूज्य स्वामीजी का ही स्नेह एवं अनुग्रह था जिसके कारण हमें अन्य सारस्वत बंधु- भगिनियों से मिलने का सुअवसर प्राप्त हुआ। विभिन्न पहरावे, खानपान, भाषाओं, संस्कृतियों को निकट से समझने का समय मिला। सेवा का दुर्लभ अवसर प्राप्त हुआ, कई सबक सीखे .... गुरु सान्निध्य के ४० दिनों के श्रेष्ठ अवसर प्रदान करने हेतु हम परम पूज्य स्वामीजी के सदैव ऋणी रहेंगे, कृतज्ञतापूर्वक धन्यवाद स्वामीजी ...


                    ।। ॐ नमः पार्वतीपतये हर हर महादेव।। 
 

शुभकृत संवत्सर की समाप्ति पर हिंदू दिनदर्शिका के अंतिम हीने के महत्त्वपूर्ण दिवसों एवं उनके साथ जुड़े त्यौहारों पर श्रीमती सुधा उळ्ळाल प्रकाश डाल रही हैं।

 

।। श्री गुरुभ्यो नमः, श्री भवानीशङ्कराय नमः, श्री मात्रे नमः ।।

 

चांद्रमान दिनदर्शिका के अनुयायियों के लिए फाल्गुन मास, संवत्सर का बारवाँ हीना है। ग्रेगोरियन (इंग्लिश) कैलेंडर के अनुसार यह फरवरी अथवा मार्च हीने में आता है। इस मास में अनेक पूजायें की जाती हैं एवं उत्सव मनाए जाते हैं।   

 

  

शिराली में पुनर्प्रतिष्ठा          

परम पूज्य श्रीमत् कृष्णाश्रम स्वामीजी सन्निधि, शिराली
 

फाल्गुन मास की शुक्ल तृतीया पर परम पूज्य श्रीमत् कृष्णाश्रम स्वामीजी की समाधि की पुनर्प्रतिष्ठा शिराली में परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी (तृतीय) के दिव्य हस्तों से संपन्न हुई थी प्रतिवर्ष इस दिन इसी समाधि पर एकादश रुद्र स्नान पूजा की जाती है और विशेष नैवेद्य का अर्पण होता है। जब परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शङ्कराश्रम स्वामीजी शिराली में उपस्थित होते हैं, तब परम पूज्य स्वामीजी के करकमलों द्वारा पूजा होती है। शाम को अष्टावधान सेवा समर्पित की जाती है।

 

कार्ला में प्रतिष्ठा दिवस

श्री दुर्गापरमेश्वरी मंदिर - कार्ला
 

अगले शुभ दिन अर्थात् फाल्गुन शुक्ल पंचमी को, कार्ला में श्री दुर्गा परमेश्वरी देवी की प्रतिष्ठा का दिवस मनाया जाता है। विशेष पूजा और आराधना के पश्चात् संतर्पण सेवा अर्पण की जाती है। आसपास के स्थानों से अनेक भक्तजन और साधक उत्सव में सम्मिलित होते हैं।

 

कार्ला में वर्धंती उत्सव

संजीवनी समाधि, परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम
स्वामीजी (तृतीय)कार्ला
 
 
फाल्गुन मास की शुक्ल दशमी पर, कार्ला में, परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी (तृतीय) की संजीवनी समाधि का वर्धंती दिवस मनाया जाता है इसी दिन सन् १९९३ में, पूज्य स्वामी श्री ईश्वरानंद गिरिजी महाराज द्वारा संजीवनी समाधि पर शिवलिंग की प्रतिष्ठा की गई थी।
 
 
 
शिष्य स्वीकार दिवस - मार्च प्रथम
 
 

संयोगवश इस वर्ष मार्च प्रथम को ही फाल्गुन शुक्ल दशमी तिथि भी पड़ी थी। संपूर्ण सारस्वत समाज के लिए यह एक और तिहासिक तथा पावन दिवस है, जब सन्  १९५९ में, फाल्गुन शुक्ल दशमी तिथि - मार्च की पहिली तारीख को, परम पूज्य आनंदाश्रम स्वामीजी ने ग्यारह वर्षीय बालक रवींद्र शुक्ल का शिवाजी पार्क मुंबई में एक भव्य समारोह में शिष्य-स्वीकार कर, उन्हें "परिज्ञानाश्रम" नाम से विभूषित किया था हजारों की संख्या में भक्तगण इस अविस्मरणीय उत्सव में भाग लेने हेतु एकत्रित हुए थे।

प्रतिवर्ष, कार्ला में ‘शिष्य स्वीकार उत्सव’ मनाने हेतु भक्तों एवं साधकों का भक्तिपूर्वक समागन होता है। श्री चित्रापुर मठ के अंतर्गत स्थापित अन्य शाखा मठों में भी यह उत्सव बड़ी श्रद्धा एवं उत्साह के साथ संपन्न होता है।  

 

विजय एकादशी

हमारे देश के कुछ प्रांतों में, फाल्गुन शुक्ल एकादशी को आमलक एकादशी अथवा विजय एकादशी इस उत्सव के रूप में भी मनाते हैं। आमला वृक्ष को हमारे धर्म में पावन मानते हैं क्योंकि यह माना जाता है कि भगवान विष्णु उसमें निवास करते हैं। इस दिन लोग पयोव्रत (उपवास) रखते हैं और स्वास्थ्य समृद्धि हेतु प्रार्थना करते हैं।

 

होली

फाल्गुन मास की पूर्णिमा को, भारत देश के अन्य प्रदेशों के साथ साथ, शिराली में भी बड़े उत्साह के साथ होली मनाई जाती है। शाम की पूजा संपन्न होने के पश्चात् तथा जन कल्याण की प्रार्थना करने के उपरांत, धुंधी राक्षसी के प्रतीक के तौर पर एक केले के पौधे को लकड़ी के गट्ठे के साथ जलाया जाता है। लकड़ी के ट्ठे इत्यादि को जलाना हमारी वासनाओं अथवा काम इत्यादि अनिष्ट वृत्तियों के दहन को दर्शाता है

होली के दूसरे दिन भारत के अधिकांश भाग में धूलिवंदन या धूलेटी मनाई जाती है। सौहार्दपूर्ण वातावरण में, युवा और वृद्ध दोनों आपसी मतभेद और बैर को भूलकर एक दूसरे का रंगों के साथ अभिनंदन करते हैं। वृंदावन, नंदगाँव,

 

वर्धंती, उमामहेश्वर मंदिर – श्री समाधि मठ, मंगलूरु

श्री उमामहेश्वर सन्निधि - मंगलूरु

 

फाल्गुन मास की कृष्णपक्ष पंचमी पर, श्री चित्रापुर मठ के अन्तर्गत मंगलूरु के श्री समाधि मठ में स्थित श्री उमामहेश्वर सन्निधि की र्धंती मनाई जाती है। यह मंदिर सारस्वतों के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। वास्तविक र्धंती के दिन पहले १०८ नारियलों के होम के साथ यह उत्सव प्रारंभ होता है। दिवसीय महारुद्र भी इसी दिन प्रारंभ होता है। ठे दिन चंडिका होम संपन्न होता है। उसी शाम १०८ कलशों की स्थापना की जाती है। सातवें दिन की सुबह को अभिषेक तथा विशेष पूजा के पश्चात् संतर्पण किया जाता है। शाम को रंगपूजा, अष्टावधान सेवा और दीपोत्सव संपन्न होते हैं।

 

वर्धंती, श्री उमामहेश्वर सन्निधि – श्री भंडीकेरी मठ, गोकर्ण

श्री उमामहेश्वर सन्निधि - गोकर्ण            

 

गोकर्ण क्षेत्र के हमारे दिव्य दिमठ - श्री भंडीकेरी मठ में, फाल्गुन मास की कृष्णपक्ष षष्ठी पर, श्री उमामहेश्वर सन्निधि की र्धंती मनाई जाती है। काकड़ा और शेवंती के फूलों के तोरणों से सजाया गया मठ, उत्सव के समय और अधिक खिल उठता है। पुष्प अलंकार, पंचामृत रुद्राभिषेक सेवायें अर्पण की जाती हैं और "पंचभक्ष परमान्न" नैवेद्य चढ़ाया जाता है। रात्रि में दीपराधना पूजा की जाती है तथा उसके पश्चात् प्रसाद वितरण होता है।

 

फाल्गुन मास के अन्य महत्त्वपूर्ण दिवस

ऐसा माना जाता है कि धर्मराज युधिष्ठिर का जन्म फाल्गुन बहुला अष्टमी को, तथा भीमसेन का जन्म फाल्गुन शुद्ध त्रयोदशी को हुआ था

फाल्गुन मास संवत्सर के अंतिम चरण और नए संवत्सर के आरंभ की घोषणा करता है। यद्यपि इस हीने की ऋतु शिशिर है, किंतु वास्तव में यह शीत ऋतु का ग्रीष्म में क्रमशः परिवर्तन होने का काल है, अतः  सामान्यतः मौसम सुहावना रहता है।

 

संदर्भ और आभार सूची

वेद हल्दीपुर नागेश भट्टमाम

वेद रविकिरण भट्टमाम - गोकर्ण

वेद उप्पोणी गुरु भट्टमाम

श्री चित्रापुर मठ दिनदर्शिका, शुभकृत संवत्सर

उत्सव, मठ प्रकाशन

https//www.hindupad.com
https//www.thedivineindia.com
https//www.drikpanchang.com
https//www.abplive.com/lifestyle/religion
छायाचित्रश्री चित्रापुर मठ वेबसाइट और वंतिगा दाताओं की निर्देशिका २०१५-१९

.................................................

सुभाष मडिमण माम के जीवन की एक चिरस्मरणीय घटना - जिसके स्मरण मात्र से वे स्वयं को अत्यंत धन्य और भाग्यवान् मानते हैं, हमारे साथ साझा कर रही हैं, कुशल बैलू पाच्ची...

 पालनाद्दुरितच्छेदात् कामितार्थप्रपूरणात् ।

 पादुकामन्त्रशब्दार्थं विमृशन् मूर्ध्नि पूजयेत् ।।

श्री गुरुपादुका स्तोत्रम्”, पर स्वाध्याय करते समय, परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी ने उपरोक्त श्लोक की व्याख्या इस प्रकार की है :

पादुका” इसे हमारी गुरुपरंपरा का उदात्त प्रतीक माना जा सकता है, जिसका श्रद्धापूर्वक ध्यान करने से वे हमारा संरक्षण और पोषण करती हैं...  पा से पालनात्हमारे आध्यात्मिक पथ पर आने वाली बाधाओं को दूर करती हैं ... दु से दुरितच्छेदात्और हमारी उचित इच्छाओं की पूर्ति करती हैं, जिससे कि हम अपनी साधना के पथ पर तेजी से आगे बढ़ सकें ...  का से कामितार्थप्रपूरणात्हमारे समाज के लिए, हमारी

गुरुपरंपरा के पूज्य गुरुवर्यों की पादुकाएँ, व्यक्ति और शक्ति दोनों स्वरूप में, अत्यंत प्रेम, सम्मान और भक्ति-भाव के साथ पूजनीय हैं। सीलिए सुभाष मडिमण माम और उनके बंधुविजय माम के लिए वास्तव में यह भूरि भूरि आशीर्वाद ही था जब उन्हें परम पूज्य श्रीमद् आनन्दाश्रम स्वामीजी की दिव्य पादुकाएँ, शुक्रवार  जनवरी सन् २०२३ को शिराली में परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी को समर्पित करने का दुर्लभ अवसर प्राप्त हुआअपने परम गुरु की पादुकाओं को प्राप्त करने पर, पूज्य स्वामीजी के मुखारविंद पर प्रकट अपार हर्ष का दृश्य आज भी मडिमण बंधुओं के हृदय में स्थायी रूप से अंकित है।


सुभाष माम और विजय माम, परम पूज्य स्वामीजी को दिव्य पादुकाएँ समर्पित करते हुए

 दोनों बंधुओं के लिए यह एक मिश्रित भावनाओं का क्षण था; स्वामीजी द्वारा पादुकाओं की स्वीकृति के लिए वे स्वामीजी के प्रति अतीव कृतज्ञ थे क्योंकि अब वे आश्वस्त थे कि जिन पादुकाओं को उनके परिवार ने साठ वर्षों तक इतने प्यार और श्रद्धा से पूजा था, वे अब अपने उचित स्थान पर पहुँच यीं थीं जहाँ उनकी भक्ति भाव से निरंतर पूजा होती रहेगी किंतु साथ ही उन्हें अपने पूजा स्थान में उन पादुकाओं की अनुपस्थिति का अनुभव हुआ जहाँ पर उन्होंने पादुकाओं को अपने कुलदेवता - श्री शांतादुर्गा और श्री मंगेश के छायाचित्रों के निकट एक अभिलषित स्थान प्रदान किया थापरम पूज्य स्वामीजी ने उनकी चिंताओं का शमन करते हुए उन्हें समझाया कि जिस तरह से उन्होंने पादुकाओं की  देखभाल और पूजा की थी, इसका अनुभव होते ही अब वे सहज ही उनके जीवन का एक हिस्सा बन चुकी हैं। हाल ही में तिरुवन्नमलई में संचालित, “श्री गुरुपादुका स्तोत्रम्पर स्वाध्याय का उल्लेख करते हुए, परम पूज्य स्वामीजी ने उन्हें पादुकाओं की सहस्रार चक्र में कल्पना करते हुए उन पर ध्यान करने की प्रक्रिया समझायी और यह भी आश्वासन दिया कि इस मानस प्रक्रिया को करने से संपूर्ण गुरुपरंपरा की उपस्थिति का अनुभव हो जाता है सुभाष माम कहते हैं कि यह उनके लिए एक रहस्योद्घाटन था - कि भक्तिपूर्वक गुरु-स्मरण करना उतना ही लाभदायक है जितनी कि गुरु की भौतिक उपस्थिति। परम पूज्य स्वामीजी का यह आश्वासन कि गुरुपरंपरा  का आशीर्वाद सदैव उनके परिवार पर बना रहेगा, दोनों बंधुओं के लिए घर में पादुकाओं की भौतिक अनुपस्थिति से उभरने  हेतु शक्ति का आधार स्तंभ बन गया

मडिमण परिवार का हमारे मठ और हमारी गुरु परंपरा के साथ संबंध

सुभाष माम के पिता, स्वर्गीय श्री नारायण सुंदर राव मडिमण, हमारे चित्रापुर सारस्वत समाज के एक सक्रिय सदस्य थेवे  चित्रापुर मठ संस्थान केस्टैंडिंग कमेटी” (Standing Committee) नामक समिति के सदस्य थे और अन्य समान विचारधारा रखनेवाले सदस्यों के साथ मिलकर, उन्होंने सन् १९४० में मुंबई में बांद्रा स्थानीय सभा की स्थापना की। सन् १९५१-५२ में परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी की सर्वप्रथम आधिकारिक यात्रा के समय, बांद्रा में किसी दूसरे उपयुक्त निवास स्थान के अभाव के कारण, परम पूज्य स्वामीजी और उनके सेवकों का, मडिमण परिवार ने अपने ही घर में अत्यंत आदर से अतिथि सत्कार किया थाउनके प्रांगण में ही अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता था सुभाष माम तब आठ साल के बालक थे और अपने घर से पंडाल तक हाथ में दंड और चवरी (चँवर/ चामर) पकड़कर परम पूज्य स्वामीजी के साथ चलने का सुखद अनुभव वे साझा करते हैं

(बायें से दायें: परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी की सर्वप्रथम आधिकारिक यात्रा पर बांद्रा में आगमन; बांद्रा स्थानीय सभा के अध्यक्ष के रूप में, नारायण माम, परम पूज्य स्वामीजी का स्वागत करते हुए; परम पूज्य स्वामीजी  की बांद्रा की प्रथम यात्रा के अंतर्गत, सेवा में नियुक्त स्वयंसेवक सुभाष माम परम पूज्य स्वामीजी के पीछे खड़े दिखाई दे रहे हैं)

 

सुभाष माम अपने परिवार के वरिष्ठ सदस्यों से सुनी हुई बातें याद करते हुए कहते  हैं कि सन् १९५७-५८  के आसपास समाज के सदस्यों की इच्छा थी कि परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी शिष्य - स्वीकार करें; परंतु परम पूज्य स्वामीजी इसके लिए अनिच्छुक थे, क्योंकि मठ के मामलों में समाज के लोगों के मन में एक शुष्कता-सी आयी हुई थी। तथापि समाज के सदस्यों की निरंतर विनति पर, स्वामीजी ने शिष्य स्वीकार करने की उनकी प्रार्थना को स्वीकार किया। सुभाष माम याद करते हुए कहते हैं कि उनके पिता, “स्टेंडिंग कमेटी”  के सदस्य होने के कारण, श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी का अंतिम अनुमोदन प्राप्त करने हेतु तरुण रवींद्र शुक्ल को बंगलूरु मठ में स्वामीजी से मिलवाने के लिये ले गये थे।

 

सुभाष माम स्वयं को भाग्यशाली समझते हैं कि मुंबई लौटने पर, अपने पिता एवं भावी शिष्यस्वामीजी को रेलवे स्टेशन से बांद्रा में उनके घर लाने का अवसर उन्हें प्राप्त हुआ मडिमण परिवार के सदस्यों के साथ अल्पाहार करने के पश्चात्, भावी शिष्यस्वामीजी रवींद्र शुक्ल को पुनः उनके घर वाकोला तक पहुँचाने का उत्तरदायित्व भी सुभाष माम को ही सौंपा गया था  

तत्पश्चात्, SSC की महत्त्वपूर्ण परीक्षा निकट होते हुए भी, सुभाष माम ने स्वयंसेवक के रुप में सन् १९५९ के शिष्यस्वीकार समारोह में बड़ी ही सक्रियता एवं उत्साह से भाग लिया। उन्हें स्मरण है कि वे इस विचार से अत्यंत अभिभूत हो जाते थे कि  इतने युवा शिष्य, भविष्य काल में मठाधिपति बनकर एक भव्य समाज का नेतृत्व करने के उत्तराधिकारी बनने जा रहे हैं  

सन् १९६१ में, नारायण माम नौकरी के सिलसिले में अपने परिवार के साथ, बांद्रा से मुंबई के अन्य एक भाग - “मलबार हिलनामक स्थान में निवास करने चले गए इसके पश्चात, सन् १९६२-६३  के आसपासस्टेंडिंग कमेटी”  ने नारायण माम के निवास स्थान को परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी के विश्राम और चिकित्सकीय परामर्श के लिए उपयुक्त निर्दिष्ट स्थान बना दिया। इस यात्रा के दौरान, सुभाषमाम को शिष्य स्वामीजी के साथ बिताए हुए क्षणों की अद्भुत स्मृतियाँ हैं... वे अक्सर उन्हें पुकारते थे, “अरे सुभाष ! यो, गप्पे मार्या।”( जाओ सुभाष, थोड़ी गपशप करते हैं! )

सुभाषमाम की माँ, शांतापाच्ची, जो एक मृदुभाषीय, संवेदनशील और परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी  की परम भक्त थीं, इ यात्रा के दौरान उन्होंने स्वामीजी की पादुकाओं को प्रसाद रुप में पाने की उनसे प्रार्थना की।  मडिमण परिवार अत्यंत आनंदित हो उठा, जब परम पूज्य स्वामीजी ने उनकी इस प्रार्थना को स्वीकारा। पादुकाओं के ऊपर तुरंत ही चाँदी का आवरण चढ़ाया गया और उन्हें पूजास्थान में उनके कुल देवताओं के साथ स्थापित किया गया। और तब से मडिमण परिवार नित्य सुबह-शाम पादुका की श्रद्धापूर्वक पूजा और अर्चना करने लगे थे।

मडिमण परिवार को आशीर्वाद सहित भेंट की हुई परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी की पावन पादुका

 

तत्पश्चात् जब उनका परिवार पुणे में स्थानांतरित हुआ, तब कई अवसरों पर, परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी, शिष्य स्वामीजी सहित नारायण माम के घर विश्राम करने के पश्चात् ही दूसरे दिन मुंबई की आधिकारिक यात्रा के लिये प्रस्थान करते थे।

मडिमण परिवार के पुणे के निवासस्थान में परम पूज्य श्रीमद् आनन्दाश्रम स्वामीजी और परम पूज्य शिष्य स्वामीजी

मडिमण परिवार का, हमारी गुरुपरंपरा के साथ विशेष मधुर संबंध बना रहा जब परम पूज्य श्रीमत्   सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी ने सन् १९९९-२००० के आसपास, उनके घर में आगमन कर उन्हें आशीर्वादित किया

सुभामाम उस दिन को याद करते हुए कहते हैं कि परम पूज्य  श्रीमत्   सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी ने एकांत में उस कमरे में कुछ समय बिताया जहाँ दिव्य पादुकाओं की पूजा होती थी। कुछ समय पश्चात् जब उनका परिवार स्वामीजी के सम्मुख गया, तब उन्हें स्वामीजी के मुखारविंद पर एक अनोखी प्रशांत मुस्कान दिखाई दी।

मडिमण परिवार के पुणे के निवासस्थान में परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी

 

दिव्यता से संजात एक जीवन

अब ८० वर्ष की आयु के सुभाष माम, स्वयं और अपने परिवार के जीवन का सिंहावलोकन करते हुए कहते हैं कि उनके परिवार को एक दिव्य शक्ति का  सदैव  मार्गदर्शन प्राप्त हुआ है उन्हें यह दृढ़ विश्वास है कि यह दिव्य क्षण केवल परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी की दिव्य पादुका और उनके कुलदेवता के आशीर्वाद से ही प्राप्त हुआ पिताजी का आत्मबल और आत्मविश्वास, माताजी का परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी की पादुका के सम्मुख परेशानियों के समाधान पाने हेतु की गई प्रार्थना और उसके पश्चात् उनकी माँ के मन को शांति प्राप्त होना तथा उनके माता-पिता का आखिरी साँस तक स्वस्थ रहना, ये सब परम पूज्य श्रीमद् आनन्दाश्रम स्वामीजी की पादुकाओं द्वारा प्राप्त संरक्षण से ही सदैव संभव हुआ था - ऐसा सुभाष माम का मानना है

 स्वयं के जीवन में भी, वे आश्चर्य प्रकट करते हैं, कि परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी की यात्राओं  के दौरान चारों भाई-बहनों में से हमेशा केवल उन्हें ही माता-पिता के साथ घर पर रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ जबकि अन्य भाई बहन पुणे में ही रहते थे। वे आगे बताते हैं कि उनकी शैक्षणिक गतिविधियों में, व्यवसाय के विकल्प और विकास में और यहाँ तक उनके जीवन की अनेक महत्वपूर्ण घटनाओं में ...  इन सभी में उन्हें एक दिव्य शक्ति की उपस्थिति का अनुभव हुआ है एक मनभावन उदाहरण उद्धृत करते हुए वे कहते हैं कि अपने चाचा से प्रेरित होकर, सुभाषमाम सेना दल में प्रवेश लेने के लिए बहुत उत्सुक थे। महाराष्ट्र से NCC  में सर्वश्रेष्ठ निशानेबाजों में से वे एक थे (कश्मीर में एक शिविर के लिए केवल दो कैडेट चुने गए थेजिनमें से एक सुभाष माम थे) और मुंबई में NCC  परेड का नेतृत्व वे ही कर रहे थे, परंतु तीन बार चयन के अंतिम दौर तक पहुँचने के उपरांत भी हताश कर देने वाली अस्वीकृतियों का उन्हें सामना करना पड़ा था इसके पश्चात् उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक्स (Electronics)  के साथ फिज़िक्स (Physics) में स्नातकोत्तर शिक्षा (मास्टर्स/ Masters) करने) का निर्णय लिया क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक्स  (Electronics) में उनकी अत्यंत रुचि थी। वे जब पाठ्यक्रम के अंतिम चरम पर पहुँच रहे थे, उसी समय अपने व्यवसाय में आगे बढ़ने के बारे में वे अनिश्चितता महसूस करने लगे थे, परंतु उसी समय उनके पिता के एक सुझाव के कारण उनके जीवन में मंगल घटनाओं की ऐसी श्रृंखला प्रकट हुई, जिसके फलस्वरूप उन्हें कोलकत्ता के प्रतिष्ठित इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनमेंट (Indian Institute of Management) में प्रवेश प्राप्त हुआ। तत्पश्चात् ईश्वर कृपा से उन्होंने अपने व्यवसाय में उत्कृष्ट विकास और प्रगति की।

सुभाष माम के शब्दों में, "सेना में भर्ती  होने के मेरे सपनों का क्या हुआ ? जब मैं तीनों बार असफल हुआ तब मैं बहुत रोया- मैं इतना निराश था कि मुझे ऐसे लगा जैसे मेरी दुनिया ही खत्म हो गई, सर पर आसमान टूट पड़ाऔर फिर, इतने अनियोजित और आकस्मिक तरीके से IIM कलकत्ता में प्रवेश पाना, वह भी उस समय जब पोस्ट-ग्रेजुएशन फाइनल का तनाव था ; प्रतिस्पर्धा के नियम भी कठिन थे और फिर मेरा व्यवसाय ... मुझे विश्वास है कि ये सब मैंने केवल अपने बल पर प्राप्त नहीं किया है।  जो कुछ हो रहा था वह सब मेरी समझ के परे था अब मैं बड़े विश्वास के साथ कह सकता हूँ कि मैं बहुत धन्य  हूँ  क्योंकि ये सब परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी के आशीर्वाद से ही मुझे प्राप्त हुआ है मेरे लिए वेआनंदकी मूर्ति थे जो शांति और आत्मसंयम के रूप में व्यक्त हो रहे थे ; और जब भी मैं उन्हें देखता, मुझे लगता कि अब मुझे किसी और वस्तु की इच्छा नहीं - मैं केवल उन्हें देखते ही रहना चाहता था।

ये शब्द परम पूज्य श्रीमत्  सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी के आशीर्वचन में प्रतिध्वनित होते हैं कि हमें गुरु सान्निध्य के विषय में निरंतर जागरूक रहना चाहिए, जो सदैव हमारे जीवन में आने वाले उतार-चढ़ाव, निर्णयात्मक क्षण, उपलब्धियाँ आदि में हमारा सतत मार्गदर्शन करते हैं परम पूज्य स्वामीजी हमें आश्वस्त करते हैं कि यह अनुस्मरण, केवल शिष्य के पुरुषार्थ और गुरु की कृपा से ही संभव हो सकता है।

परम पूज्य स्वामीजी को दिव्य पादुकायें समर्पित करते समय, उन्होंने उल्लेख किया कि सन् २००७ में परम पूज्य सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी ने कहा था कि परम पूज्य श्रीमद् आनंदाश्रम स्वामीजी भविष्य में किसी किसी रूप में शिराली निश्चित आएँगे। क्या यह मात्र संयोग है कि इन पादुकाओं का आगमन शिराली में उस समय हुआ, जब हमश्री गुरुज्योति पदयात्राके समय परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी (तृतीय) की पादुकाओं को शिराली ले कर आए थे! एवं अब हम उस अपूर्व पदयात्रा के १५ वर्ष पूरे होने की चौखट पर खड़े हैं ... शायद यह हमारे परमेष्ठी गुरु का ही प्रसाद है, जो उनके आनंद और संतोष का प्रतीक है!

.................................................

 

 

लेखिका - श्रीमती बीना सवकुर 
हिंदी रूपांतर - अनुवाद समिति 

 

पावन माघ महीने में कुछ आडंबरहीन तो कुछ उत्सवपूर्ण त्यौहार हैं पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध की ओर सूर्य की गति, प्रतिवर्ष के ग्यारहवें मास में आरंभ होती हैयह माघ मास ग्रेगोरियन अथवा अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार जनवरी - फरवरी हीनों से संबंधित है।

माघ मास अनेक शुभ कार्यों के लिये पवित्र माना जाता है जैसे - विवाह, ब्रह्मोपदेश (जनेऊ), गृह-प्रवेश इत्यादि। जिस प्रकार कार्तिक मास में दीप-प्रज्वलन शुभ माना जाता है, उसी प्रकार माघी -स्नान (पवित्र नदियों में डुबकी लगाना) माघ मास का प्रमुख विधान है इस कालावधि में लोग सूर्योदय से पूर्व, विशेषकर अरुणोदय काल में, तीर्थ क्षेत्र की पावन नदी या तालाब में स्नान करते हैं। इस माघी स्नान के पश्चात् भगवान माधव एवं सूर्यदेव को विशेष अर्घ्य अर्पण किया जाता है।

माघी स्नान का महत्व :

माघ मास के पूर्व, शीत ऋतु की प्रतिकूल ठंड के प्रभाव से कुछ लोग शारीरि दर्द और कमजोरी का अनुभव करते हैं। इस मास में सूर्य की तीव्र किरणों तथा लवणयुक्त शोधक समुद्री जल की वैद्यकीय उपयोगिता के कारण ही, संभवतः  षि -मुनियों ने शुद्धिकरण हेतु समुद्रीय खारे जल में एक ड़ी अर्थात् ४८ मिनट के लिए समुद्रस्नान की सलाह दी है। इससे शरीर को शुद्धीकरण एवं नई ऊर्जा का लाभ मिलता है

माघ मास के धार्मिक समारोह :

माघ हीने में अनेक धार्मिक समारोह मनाये जाते हैं - कुछ सादगी से और कुछ धूम-धाम से

 

गणेश जयंती :

 

वस्तुतः  भगवान गणेश का जन्मदिन, गणेश जयंती, तिलकुंड चतुर्थी या वरद चतुर्थी के नाम से भी  जाना जाता है। इस सुदिन, बुद्धिदाता गणेश भगवान का जन्मदिन मनाया जाता है जो कि विशेषतः  महाराष्ट्र और गोवा राज्यों में लोकप्रिय हैयह माघ हीने में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता हैइस अवसर पर भक्तगण हलदी अथवा सिंदूर से भगवान गणेश की मूर्ति बनाते हैं। पूजा अर्चना के पश्चात् मूर्ति का जल में विसर्जन किया जाता है। भक्तगण व्रत का आचरण एवं पूजा इत्यादि करते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस शुभ दिन पर गणेशजी की प्रार्थना करने से सारी इच्छाएँ पूर्ण होती हैं  और आगामी वर्ष शांति, समृद्धि से संपन्न होता है

माघी नवरात्रि :

लोकप्रिय शारदीय और चैत्र-नवरात्रियों के अतिरिक्त कुछ साधक अन्य दो गुप्त नवरात्रियों - माघी और आषाढ़ी गुप्त नवरात्रि को भी ड़ी उमंग और ठाट-बाट से मनाते हैं। इन दो नवरात्रियों में तांत्रिक साधना के अनुयायी गुप्त विधानों सहित देवी की दश-महाविद्याओं की पूजा करते हैं इसलिए इन्हें गुप्त नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है। माघ मास के शुक्ल पक्ष में प्रतिपदा से लेकर नवमी तक माघी गुप्त नवरात्रि का नौ दिवसीय पर्व देवी माता के नौ शक्ति रूपों की उपासना के लिए है  शारदीय नवरात्रि में यदि किसी कारणवश कोई परिवार घटस्थापना के दिन किया हुआ संकल्प पूर्ण  नहीं कर पाता, तब यह व्रत माघ हीने में पूरा किया जा सकता है। उसी भांति, यदि कोई सुमंगली भाद्रपद तृतीया (तयि) के दिन गौरी-पूजा (वायण) हीं कर पाती है, तो माघी नवरात्रि में अपना व्रत संपन्न कर सकती है

माघ शुक्ल तृतीया :

श्री चित्रापु मठ में माघ शुक्ल तृतीया को परम पूज्य श्रीमत् शंकराश्रम स्वामीजी (द्वितीय) का समाराधना दिवस, गुरु-मठ मल्लापु गाँ में स्थित परम पूज्य स्वामीजी की दिव्य सन्निधि में मनाया जाता है।

वसंत पंचमी :

मास की शुक्ल पक्ष पंचमी को वसंत पंचमी या श्रीपंचमी कहते हैं जो वसंत ऋतु का पहला दिन होता है। कहा जाता है कि यह सुदिन अक्षर, विद्या, ज्ञान और प्रज्ञान की दिव्य अधिष्ठात्री सरस्वती देवी का जन्मदिवस भी है।

इसी कारण वाक् देवी को समर्पित यह दिन, अक्षर-अभ्यास के प्रारंभ हेतु पावन माना जाता है

माघ मास में निष्क्रियता, आलस्य, अज्ञान से मुक्ति पाने के लिए सरस्वती देवी की आराधना करते हैंपरंपरानुसार, यजमा ब्राह्मणों को अपने घर पर आमंत्रित कर, उनको विशेष भोजन का सेवन कराते हैं। इस दिन पितृ-तर्पण भी करते हैं। कुछ उपासक कामदेव की भी पूजा करते हैं। कई शिक्षण संस्थानों में सरस्वती देवी का विशेष पूजन आयोजित किया जाता है।

इस पूजा में उपयोगी  सामग्री में पीले रंग का विशेष महत्त्व होता है, क्योंकि यह रंग ज्ञान, समझदारी, समृद्धि, आशावाद, उर्जा और सकारात्मकता का प्रतीक माना जाता है

सरस्वती देवी की प्रतिमाओं को पीले रंग की वस्तुओं से - जैसे पीले वस्त्र, पीले फूल, इत्यादि से सुशोभित करते हैं। उपासक भी पीले वस्त्र पहनकर, पीले रंग के स्वादिष्ट व्यंजनों का सरस्वती देवी को भोग ढ़ाते हैं

 

रथसप्तमी :

सप्तमी तिथि, चंद्रमा की मासिक गति पर आधारित कैलेंडर के मास की शुक्लपक्ष कृष्णपक्ष का सातवाँ दिन है। यह मान्यता है कि रथ सप्तमी, कश्यप ऋषि और उनकी पत्नी दिति के सुपुत्र - सूर्यदेव की वर्षगांठ है। इस दिन सूर्य देव पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध की ओर प्रयाण करते हैं और मकर संक्रमण (संक्रांति ) के दिन उनका मकर राशि में प्रवेश होता है  

लोकप्रिय आस्था के अनुसार, इस दिन सूर्यदेव के सात घोड़ोंवाले रथ को उनके रथसारथी अरुण, दक्षिण दिशा से पुनः  ईशान्य दिशा की ओर मोड़ते हैं, तभी वसंत ऋतु का आगमन घोषित होता है  कहा जाता है कि सूर्यदेव के रथ का एक ही पहिया है जो कालचक्र या संवत्सर को दर्शाता हैरथ को खींचने वाले सात घोड़े, प्रकाश के सात रंगों का संकेत देते हैं अथवा वे सप्ताह के सात दिनों के प्रतीक भी माने जाते हैंज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्यदेव प्रत्येक राशि में एक महिने के लिए विराम करते हैं और १२ राशियों का एक संपूर्ण आवर्तन ३६५ दिनों या १२ महिनों में पूर्ण होता है

प्रचलित प्रथा के अनुसार रथ सप्तमी के दिन लोग अर्क के सात पत्तों से अभ्यंग स्नान करते हैं। वे स्नान के समय अर्क का एक पत्ता अपने सिर पर, दो पत्ते कंधों पर, दो पत्ते अपने घुटनों पर

और दो पत्ते अपने पैरों पर रखते हैं

अर्क को तेलगू भाषा में जिल्लेडु, कन्नडा में एक्का, तमिळ में एरुक्कु और अंग्रेजी में केलोट्रोप (बोस्ट्रिंग हेम्प) कहते हैं।

परंपरानुसार, चित्रापु सारस्वत अपने घरों में सुपारी के वृक्ष के तने (पोइंयाँ) से दिया बनाकर आँगन के तुलसी वृंदावन के समीप रखकर उसमें दीप प्रज्वलित करते हैं प्रज्वलित दीप अर्क के पत्तों पर भी स्थापित कर तर्पण करते हुए किसी जलाशय में विसर्जित करते हैं

रथ सप्तमी चित्रापु सारस्वत समाज के लिए गुरुप्राप्ति दिवस होने के कारण भी बहुत ही महत्त्वपूर्ण हैइसी दिन चित्रापु सारस्वत समाज के प्रथम गुरु श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी (प्रथम) गोकर्ण गाँव के पूर्वजों की कठिन तपश्चर्या और अनुष्ठान के फलस्वरूप कोटितीर्थ नाम सरोवर के किनारे पधारे थे इस माघ मास की सप्तमी तिथि को हमारे गोकर्ण और शिराली मठ में विशेष सेवाएँ  अर्पण की जाती हैं

भीष्माष्टमी :

 

भारत के भिन्न प्रांतों में माघ मास के अनेक दिन भीष्म को समर्पित हैं  - भीष्माष्टमी, भीष्म द्वादशी, भीष्म एकादशी ये प्रमुख हैं। भीष्माष्टमी का उत्सव, ऐतिहासिक महाकाव्य महाभारत के सर्वाधिक श्रद्धेय पात्र भीष्म पितामह से संबंधित है। इस सुदिन को भीष्म पितामह निर्वाण को प्राप्त हुए थे।  इसके प्रतीक स्वरूप माघ मास में, रथ सप्तमी के ठीक एक दिन बाद, शुक्ल पक्ष की अष्टमी को भीष्माष्टमी कहते हैं।

लोकप्रिय विश्वा है कि इसी मास में महाभारत के युद्ध के पश्चात्, बाणों की शय्या पर लेटे हुए भीष्म-पितामह ने, भगवान विष्णु के अवतार - श्री कृष्ण की उपस्थिति में पांडवों के लिए विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र को उजागर किया था

वर्धंती उत्सव :

माघ शुक्ल नवमी पर श्री चित्रापु मठ में श्रीवल्ली भुवनेश्वरी देवी सन्निधि, श्री महागणपति सन्निधि, श्रीमद् आदिशंकराचार्य सन्निधि, श्रीमत् परिज्ञानाश्रम (तृतीय) गुरुपादुका सन्निधि तथा श्री रामांजनेय सन्निधि की वर्धंती तथा श्री क्षेत्रपाल सन्निधि, ये सभी पावन उत्सव साधक मिलजुलकर श्रद्धाभाव से मनाते हैंइस अवसर पर पंचश्रीफल-गणहोम सेवा श्री महागणपति को और कला-अभिवृद्धि के लिए द्वादश कलश सेवा श्रीवल्ली भुवनेश्वरी देवी को समर्पित की जाती है।

माघ शुक्ल त्रयोदशी :

इस दिन, मंगलूरु शहर में स्थित, श्री उमा-महेश्वर देवस्थान में श्री सुब्रह्मण्यम् सन्निधि की वर्धंती मनाते हैं

माघ पूर्णिमा :

माघ मास की पूर्णिमा पर महा-माघी उत्सव होता है, जो माघी स्नान का अंतिम दिन है लोगों का विश्वास है कि इस पावन दिन पर की गई प्रार्थना, उपासना, दान, अनुष्ठान जैसे पुण्य कर्मों के फलस्वरूप भक्त की आध्यात्मिक उन्नति होती है।

माघ कृष्ण तृतीया :

इस दिन मंगलूरु शहर में श्री चित्रापु मठ में स्थित श्री वेणुगोपाल सन्निधी की वर्धंती मनाई जाती है

माघ कृष्ण पंचमी :

चित्रापु सारस्वत समाज के लिए माघ कृष्ण पंचमी अत्यंत महत्त्वपूर्ण और विशेष हैइस दिन श्री चित्रापुर मठ के मठाधिपति परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी के पट्टाभिषे दिवस की वर्धंती मनाते हैं २७ फरवरी १९९७ के दिन, श्री शृंगेरी पीठाधी - यतिवर जगद्गुरू शंकराचार्य और परम पूज्य नारायणाश्रम स्वामीजी की पावन उपस्थिति में, परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी श्री चित्रापु मठ के ग्यारहवें मठाधीश पद पर प्रतिष्ठित किये गए सभी सारस्वत साधक सम्मिलित होकर इस महत्त्वपूर्ण दिवस पर ड़े प्रेम और भक्तिभाव से श्री गुरु-पादुका-पूजन और श्री भिक्षा सेवा श्रद्धेय गुरु को समर्पित करते हैं और उनकी अमृतवाणी से आशीर्वचन सुनने की उत्सुकता से प्रतीक्षा करते हैं।

माघ कृष्ण षष्ठी :

श्री चित्रापु मठ - शिराली में, माघ मास के कृष्ण पक्ष के छठवें दिवस पर परम पूज्य श्रीमत्  शंकराश्रम स्वामीजी (प्रथम) सन्निधि और परम पूज्य श्रीमत् केशवाश्रम स्वामीजी सन्निधि की वर्धंती पर विशिष्ट पूजायें अर्पण की जाती हैं।

महाशिवरात्रि :

माघ मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी की रात्रि से चतुर्दशी के भोर तक भगवान शिव को समर्पित, महाशिवरात्रि का पूजन और अनुष्ठान किया जाता है। इस शिवोपासना से आध्यात्मिक उन्नति अतीव शीघ्र होती है, ऐसा साधकों का अनुभव हैमहाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिरों में विशेष महोत्सव मनाये जाते हैं जहाँ लाखों श्रद्धालु, मिलकर कृपासागर तथा पापविध्वंसक शिवजी की भक्ति और श्रद्धा से आराधना, अनुष्ठान तथा ध्यान करते हैं

चित्रापु सारस्वत महाशिवरात्रि पर पूज्य स्वामीजी द्वारा आचरित शिव-पूजन में सम्मिलित होने के लिए सदैव आतुर रहते हैं शिराली मठ में श्री भवानीशंकर की प्रतिमा मुख्य सभागृह में स्थापित कर परम पूज्य स्वामीजी द्वारा चारयाम पूजा अर्पित की जाती हैयह चार-याम पूजा रात्रि के दस बजे आरंभ होती है एवं प्रातः  छह बजे इसका समापन होता है। इसके उपरांत परम पूज्य स्वामीजी उपस्थित सभी साधकों को तीर्थ वितरण करते हैं

महत्त्वपूर्ण धार्मिक हीना होने के अतिरिक्त माघ मास, वसंत ऋतु के आरंभ का संकेत भी देता है, जब प्रकृति पुनः  चारों ओर नूतन पुष्प-पर्णों से सुसज्जित होती है। वर्ष की इस महत्त्वपूर्ण मासावधि के पावन अनुभवों का आनंद लेने के लिये लोग उत्साहपूर्वक प्रतीक्षा करते हैं।

(संदर्भ : श्री केशव सोरा; उत्सव - परिज्ञान पब्लिकेशन; श्री चित्रापु मठ कैलेंडर विक्कीपीडिया ; इंडियनमंदिर्स.ब्लॉगस्पॉट.कॉम; हिंदुपेड.कॉम )

****************
 

लेख (आँग्ल भाषा) - श्री कृष्णानंद मंकीकर   

हिंदी भाषांतर - अनुवाद समिति

दीपावली का पर्व हमने कुछ ही दिन पहले मनाया था - दीपों का त्यौहार जो आशा और उज्ज्वलता का प्रतीक है एवं अंधकार को मिटाते हुए चहुँ ओर खुशियाँ फैलाता है। कहा जाता है कि जब राम, रावण को पराजित कर विजयी होकर लौटे थे, तब यह पर्व मनाया गया था। यह दीपावली का पाँच दिवसीय सुंदर त्यौहार, हिंदी पंचांग के सातवें महीने में, कृष्णपक्ष  के बारहवें दिन अर्थात् श्विज कृष्ण द्वादशी को आरंभ होता है। इसके पश्चात् धन त्रयोदशी, नरक चतुर्दशी और अमावस्या आते हैं। दीपावली पर्व के अंतिम दो दिन कार्तिक महीने में आते हैं।

आइये, उत्सव भरे दिनों के इस कार्तिक महीने पर गौर करते हैं। परंतु उसके पहले आँग्ल दिनदर्शिका के साथ पंचांग के तालमेल पर एक संक्षिप्त टिप्पणी...

पंचांग

पंचांग की तिथियाँ क्रमबद्ध होती हैं और चंद्रमा के घटने-बढ़ने को दर्शाती हैं। पहली तिथि को हम “प्रथमा” कहते हैं, दूसरी को “द्वितीया” इत्यादि और अंत में महीने के शुक्ल पक्ष की पंद्रहवीं तिथि  को “पूर्णिमा” कहते हैं, जब चंद्रमा उस पक्ष में अपनी पूर्णता को प्राप्त होता है। कृष्ण पक्ष में जब चंद्रमा पुनः घटने लगता है, तब फिर से तिथियों का आरंभ प्रथमा से होता है और यह पक्ष पंद्रहवीं तिथि “अमावस्या” के साथ समाप्त होता है। 

 

पक्ष के दिन

शुक्लपक्ष (तिथि के नाम)

कृष्णपक्ष (तिथि के नाम)

पहिला

प्रतिपदा

प्रतिपदा

दूसरा

द्वितीया

द्वितीया

तीसरा

तृतीया

तृतीया

चौथा

चतुर्थी

चतुर्थी

पाँचवा

पंचमी

 पंचमी

छठवाँ

षष्ठी

षष्ठी

सातवाँ 

सप्तमी

सप्तमी

आठवाँ

अष्टमी

अष्टमी

नौवाँ

नवमी

नवमी

दसवाँ

दशमी

दशमी

ग्यारहवाँ

एकादशी

एकादशी

बारहवाँ

द्वादशी

द्वादशी

तेरहवाँ

त्रयोदशी

त्रयोदशी

चौदहवाँ

चतुर्दशी

चतुर्दशी

पंद्रहवाँ

 पूर्णिमा

अमावस्या

 

इस प्रकार एक मास में तीस तिथियाँ होती हैं, पंद्रह शुक्ल पक्ष में और पंद्रह कृष्ण पक्ष में, जिसके अनुसार बारह महीनों में ३६० दिन हुए, है ना ? परंतु चंद्रकला पर आधारित पंचांग में ३५४ दिन होते हैं, क्योंकि कभी-कभी एक तिथि एक दिन से अधिक विस्तृत होती है और कभी-कभी तिथि लुप्त भी होती है। इसलिए चंद्रकला पर आधारित पंचांग, जिसमें ३५४ दिन होते हैं, उसमें आंग्ल कैलंडर से, जो ३६५ या ३६६ दिनों का होता है, ११ दिन कम होते हैंसाधारणतः हम सूर्य की गति पर आधारित जनवरी से दिसंबर तक की सौर दिनदर्शिका का अनुसरण करते हैं। पंचांग को सौर दिनदर्शिका (जिसमें एक वर्ष में  ३६५ दिन और ६ घंटे होते हैं) के अनुकूल रखने के लिए, पंचांग में हर ३२ या ३३ मासों में एक अधिक मास जोड़ा जाता है। साधारणतः, अतिरिक्त मास जो उसी नाम के महीने के पहले आता है, ‘अधिक मास के नाम से जाना जाता है और मूल महीने को ‘निज मास कहा जाता है। उदाहरण के रूप में - किसी वर्ष में यदि अधिक श्रावण मास हो, तो उसके पश्चात् निज श्रावण मास भी होगा। ऐसे ही, कभी-कभी समय के चलते एक महीना लुप्त भी हो सकता है, जिसे क्षय मास कहते हैं। गणना जटिल है, परंतु इस प्रकार दोनों दिनदर्शिकाओं के महीनों को समकालिक रखा जाता है। अतः हमारी दिनदर्शिका को “लूनीसोलर/ चंद्र-सौर” भी कहा जा सकता है।

महीनों के नाम २७ नक्षत्रों के नामों से संबंधित हैं। हर पूर्णिमा की रात्रि को चन्द्रमा अपनी गति के अनुसार आकाश में किसी एक नक्षत्र के निकट होता है। पूर्णिमा की रात्रि को चंद्रमा जिस नक्षत्र के निकट हो, उस महीने को उसी नक्षत्र से संबंधित नाम दिया जाता है। अतः पहला चैत्र का महीना चित्रा नक्षत्र से संबंधित, दूसरा वैशाख मास विशाखा नक्षत्र से संबंधित और इस तरह सारे बारह महीनों के नाम नक्षत्रों के नामों पर आधारित होते हैं।

नीचे दी गई सूची में बारह महीनों के नाम और उनसे संबंधित ऋतुएँ उल्लेखित हैं:

 

क्रमांक

चंद्रमास

ऋतु के नाम (हिंदी दिनदर्शिका के अनुसार)

 ऋतु के नाम (आँग्ल कैलेंडर के अनुसार)

 

पूर्णिमा से संबंधित नक्षत्र

 

चैत्र

वसंत

Spring

चित्रा

वैशाख

वसंत

Spring

विशाखा

ज्येष्ठ

ग्रीष्म

Summer

ज्येष्ठा

आषाढ़

ग्रीष्म

Summer

 पूर्वाषाढ़ा, उत्तराषाढ़ा

श्रावण

वर्षा

Rainy season

श्रवण

भाद्रपद

वर्षा

Rainy season

पूर्वाभाद्रा, उत्तराभाद्रा

आश्विज(आश्विन/अश्वायुज)  

शरद

Autumn

अश्विनी

कार्तिक

शरद

Autumn

कृत्तिका

मार्गशिर

हेमंत

Autumn

मृगशिरा

१०

पुष्य

हेमंत

Autumn

पुष्य

११

माघ

शिशिर

Winter

मघा

१२

फाल्गुन

शिशिर

Winter

फाल्गुनी

 

उपरोक्त सूची के अनुसार वसंत ऋतु से आरंभ होकर शिशिर ऋतु तक हमारी छः ऋतुएँ होती हैं। हर ऋतु दो महीनों की होती है 

कार्तिक मास

आइये, अब हम पंचांग के आठवें महीने, कार्तिक मास के विषय में जानें जो कि एक विशेष शुभ मास है।

हमारे पंचांग की चौथी ऋतु, शरद ऋतु, आश्विन और कार्तिक मास में होती है। मराठी के  विख्यात कवि केशव सुत शरद ऋतु के आगमन का स्वागत इन शब्दों के साथ करते हैं, “ईश्वर अत्यंत करुणामय हैं, जो उन्होंने दुःख-निवृत्ति के लिए वर्षा के पर्जन्यास्त्र से  अकाल के दैत्य पर प्रहार किया है। अब दीपावली के मंगलमय दिन आ गए हैं।

बादलों से रहित शरद ऋतु निरभ्र उज्जवल आकाश के लिए जानी जाती है, जो वर्षा के पश्चात् भरपूर फसल लाती है। अतः चारों ओर सुख-समृद्धि का वातावरण होता है।

 

कार्तिक मास के शुभ दिन

लिप्रतिपदा

कार्तिक का महीना, शुक्ल पक्ष का प्रथम दिवस, बलि प्रतिपदा के उत्सव से आरंभ होता है। बली, एक दयालु और उदार असुर सम्राट थे। किंतु देवताओं के साथ निरंतर युद्ध के कारण, श्री विष्णु ने वामन (एक बौने ब्राह्मण) के रूप में बली को पाताल लोक में निर्वासित कर दिया। पौराणिक कथा के अनुसार, बली हर वर्ष, इस बलि-प्रतिपदा के दिन, भूलोक वापस पधारते हैं, जहाँ उनकी पूजा की जाती है (केरल प्रांत में, ओणम के त्यौहार के समय बड़ी धूम-धाम से बली को पूजा जाता है)। बली, कृषि और अच्छी फसल के प्रतीक हैं। महाराष्ट्र में कृषक को “बलीराजा” कहते हैं। यह दिवस “पाड़वा” के नाम से जाना जाता है और इस दिन विवाहित महिलायें, अपने पति की आरती उतार कर उत्सव मनाती हैं। पति भी अपनी पत्नी को उपहार देते हैं 

 

यम-द्वितीया / भाई-दूज / भाऊ-बीज

अगला दिन, जो दीपावली का पाँचवा और अंतिम दिवस है, उत्तर भारत में भाई-दूज और महाराष्ट्र में भाऊ-बीज के नाम से मनाया जाता है, जब भाई अपने बहन के घर आता है। बहन अपने भाई को मिठाई खिलाती है और भाई उसे उपहार देता है। सुप्रसिद्ध भ्राता यम (मृत्यु के देवता) और उनकी बन यमी के सम्मान में इस दिन को यम-द्वितीया भी कहते हैं। कहा जाता है कि इस दिन यम अपनी बहन यमी के घर गए थे। यमी ने यम को उनका मनपसंद भोजन खिलाया और यम ने यमी को बहुत सारे उपहार प्रदान किए थे। तब यम ने घोषित किया था कि इस दिन जो भी बहन अपने भाई का ऐसा सत्कार करेगी, वह सौभाग्य प्राप्त करेगी। ऐसी है यह कथा... (स्मरण करें कि राखी-पूर्णिमा के दिन बहन अपने भाई के घर राखी बांधने जाती है) 

इस प्रकार कार्तिक मास इन दो महत्वपूर्ण और उत्सुकतापूर्वक प्रतीक्षित पर्वों के साथ आरंभ होता है  

 

कार्तिक शुक्ल नवमी

यह हम चित्रापुर सारस्वतों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण तिथि है क्योंकि हमारे मठाधिपति, परम पूज्य सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी का जन्म इस दिन हुआ था।

कार्तिक एकादशी, उत्थान द्वादशी

हिंदू धर्म में एकादशी, व्रत और तपस्या की दृष्टि से एक अत्यंत महत्वपूर्ण दिवस है। वैष्णवों (श्री विष्णु और श्री कृष्ण के अनुयायियों) के लिए कार्तिक मास की एकादशी का बहुत महत्व है। पंचांग के चौथे महीने, आषाढ़ की एकादशी पर भक्त आळंदी / देहू से पंढ़रपुर तक चल कर यात्रा करते हैं महाराष्ट्र में, वारकरी संप्रदाय के लोग (पंढरपुर के भगवान विट्ठल के भक्त), कार्तिकी-एकादशी के दिन, पंढ़रपुर (विट्ठल के निवास स्थल) से अपनी पालकियों के साथ अपने अपने विभिन्न निवास स्थानों को लौटते हुए, विशेष रूप से आळंदी (संत ज्ञानेश्वर की समाधि) तथा देहू (संत तुकाराम जी की कर्मभूमि) तक पैदल यात्रा करते हैं।

आषाढ़-एकादशी को शयनी-एकादशी भी कहते हैं (शयन का अर्थ है निद्रा) और कार्तिक-एकादशी को प्रबोधिनी-एकादशी कहते हैं, जब श्री विष्णु निद्रा से जागते हैं। प्रबोधिनी–एकादशी की अगली तिथि को उत्थान-द्वादशी कहते हैं, उठने की द्वादशी। इस तिथि को श्री विष्णु उठ कर ब्रह्मांड की रक्षा का काम पुनः आरंभ करते हैं, ऐसा हमारे पुराणों में कहा गया है।

 

चातुर्मास की समाप्ति

आषाढ़ एकादशी से आरंभ होकर कार्तिक एकादशी तक के चार मास, चातुर्मास के शुभ चार महीने कहलाते हैं। हिंदुओं का मानना है कि इन चार महीनों की अवधि में श्री विष्णु विश्राम करते हैं। संन्यासी, जो किसी एक स्थान पर तीन दिनों से अधिक बिना रुके, निरंतर देश में भ्रमण करते हुए धर्म का प्रचार करते हैं, चातुर्मास की इस अवधि में एक ही स्थान पर वास करते हैं। हमारे परम पूज्य स्वामीजी हमारी परंपरानुसार आषाढ़ पूर्णिमा से भाद्रपद पूर्णिमा तक दो महीनों के लिए चातुर्मास व्रत का पालन करते हैं। यह अवधि साधना, तपस्या एवं धार्मिक प्रवचनों में व्यतीत की जाती है।

 

तुलसी विवाह

कार्तिक एकादशी से कार्तिक पूर्णिमा तक के किसी एक दिन (विशेष रूप से एकादशी या द्वादशी के दिन) - तुलसी और श्री विष्णु के विवाहोत्सव स्वरुप  “तुलसी विवाह” मनाया जाता है। परंपरानुसार, विवाह के शुभ मुहूर्त “तुलसी विवाह” के पश्चात् ही आरंभ होते हैं ।  

पौराणिक कथानुसार, वृंदा, राक्षस जालंधर की सदाचारी पत्नी थी। वह श्री विष्णु की अनन्य भक्त थी। उसके सद्गुणों के कारण जालंधर अपराजेय था, जिस कारण अहंकारवश वह देवताओं से निरंतर युद्ध किया करता था। परंतु, श्री विष्णु द्वारा वृंदा से छल करने पर, जालंधर ने अपनी विशेष शक्तियाँ खो दीं। परिणाम स्वरूप वह देवताओं के साथ युद्ध में पराजित हुआ। अपने साथ विष्णु के छल-कपट का ज्ञान होने पर वृंदा ने अग्नि में आत्मदहन किया।  

उस समय श्री विष्णु ने वृंदा को पुनः तुलसी के अवतार में जन्म लेने और स्वयं उससे विवाह करने का वचन दिया। वधू के रूप में तुलसी और वर के रूप में श्री कृष्ण का यह गठबंधन, “तुलसी विवाह” के नाम से प्रचलित है।

नर्मदा नदी में पाया जाने वाला पावन पत्थर शालिग्राम, इस विवाह में श्री विष्णु का प्रतिरूप माना जाता है। तुलसी श्री विष्णु की महान भक्त होने के कारण “हरिप्रिया” के नाम से भी प्रसिद्ध है...इस कारणवश, श्री विष्णु अथवा श्री कृष्ण के पूजन में तुलसी दल आवश्यक  होते हैं।

 

कार्तिक पूर्णिमा

कार्तिक पूर्णिमा (शुक्ल पक्ष का पंद्रहवाँ दिन) हिंदू, सिक्ख और जैन धर्मियों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस दिन, गुरुनानक देव जी का जन्म हुआ जिन्होंने सिक्ख धर्म संस्थापित किया और वे सिक्खों के प्रथम गुरु बने। जैन धर्म के लोगों के लिए भी यह एक महत्वपूर्ण दिन है, जब भगवान महावीर (जैन तीर्थंकर) मोक्ष प्राप्त कर परब्रह्म  में लीन हुए।  

दक्षिण भारत में इस पूर्णिमा पर कार्तिक भगवान के जन्म का उत्सव मनाया जाता है

इस पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। हिंदुओं की ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान शिवजी ने त्रिपुरासुर के अजेय दुर्ग का विनाश किया था । त्रिपुरासुर को प्राप्त वरदान के अनुसार, कि उसके तीन राजमहलों का विनाश एक ही तीर से छिद्रित होने पर ही संभव होगा, भगवान शिवजी ने एक ही तीर से त्रिपुरासुर के दुर्ग को नष्ट किया। इस प्रकार शिवजी ने देवों को त्रिपुरासुर के अत्याचारों से मुक्त किया और वे त्रिपुरारी कहलाए। यह दिवस “देव-दिवाली” नाम से भी जाना जाता है

दक्षिण भारत में दीपों की पंक्तियों को प्रज्वलित करने की परंपरा है। इसे “कार्थिगई दीपम्” कहते हैं। कई स्थानों पर पूर्णिमा की रात्रि को ३६० (एक वर्ष के ३६० दिनों को द्योतित करते हुए), या ७२० (रात्रि को भी सम्मिलित करते हुए ) या ३६५ (सौर-वर्ष के अनुसार) दीप प्रज्वलित करते हैं।  

वैष्णवों की मान्यता है कि इस दिन राधा और कृष्ण गोपियों के साथ रास लीला किया करते थे। यह अवधि कृष्ण भक्तों (जैसे कि चैतन्य महाप्रभु के अनुयायियों) के लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण है। 

हमारे श्री चित्रापुर मठ के लिए यह एक महत्वपूर्ण तिथि है। इस दिन भगवान भवानीशंकर को शोभायात्रा कराते हुए “वनभोजन” के लिए वन में नैवेद्य अर्पण करने हेतु ले जाया जाता है। इस प्रकार हम इस उत्सव द्वारा प्रकृति के सामीप्य के महत्त्व का अनुभव करते हैं।

 

वनभोजन

 “वनभोजन”, अर्थात् ईश्वर की मूर्ति को नैवेद्य हेतु वन में  ले जाने की प्रक्रिया, हमारे मंदिरों का एक महत्वपूर्ण धार्मिक विधान है। इस कार्तिक मास में, निम्नलिखित दिवसों पर हम अपने देवताओं की सन्निधियों एवं पूर्वाचार्यों की समाधियों पर दीपोत्सव के साथ साथ वनभोजन का आयोजन करते हैं।   

१. कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी (शुक्ल पक्ष का चौदहवाँ दिन)

         - श्रीमद् अनन्तेश्वर देवस्थान, विट्ठल  

         - श्री सच्चिदानंद दत्तात्रेय सन्निधि, कुंदापुर

२. कार्तिक पूर्णिमा

         - श्री चित्रापुर मठ, शिराली  - वनभोजन

३. कार्त्तिक कृष्ण द्वितीया

         - श्री उमामहेश्वर देवस्थान, मंगलूरु

४. कार्तिक कृष्ण नवमी

         - श्री भंडिकेरी मठ, गोकर्ण

५. कार्तिक कृष्ण दशमी

         - श्री जनार्दन देव मंदिर, मंकी – वनभोजन  

 

समाराधना (पुण्य तिथि )

समाराधना दिवस हमारे पूर्वाचार्यों द्वारा महासमाधि ग्रहण करने का दिवस होता है। कार्तिक कृष्ण अष्टमी पर मंगलूरु मठ में श्रीमद् वामनाश्रम स्वामीजी का समाराधना दिवस मनाया जाता है।

 

“बोईता बंदना” (नौका उत्सव) - उड़ीसा

“बोईता बंदना” का उत्सव उड़ीसा में मनाया जाता है। उत्सव के दौरान, कलिंगों के शासनकाल में उड़ीसा-राज्य के अन्य देशों के साथ परस्पर अच्छे समुद्री संबंधों की ऐतिहासिक स्मृति में, केले के तनों और नारियल की डंडियों से बनी छोटी छोटी नावों को पानी में तैराया जाता है। हिंदू जनसाधारण इस महीने में शाकाहारी भोजन का नियम पालन करते हैं।

 

पुष्कर मेला

अजमेर के समीप, राजस्थान के पुष्कर क्षेत्र में कार्तिक एकादशी से कार्तिक पूर्णिमा तक एक मेला आयोजित किया जाता है। पुष्कर मेला भगवान ब्रह्माजी के सम्मान में आयोजित होता है। इस मेले में संसार की सबसे बड़ी ऊंटों की मंडी लगती है। यह मेला चहल-पहल से भरपूर, अत्यंत मनोरंजक और आनंददायक होता है।

 

उपसंहार  

कार्तिक मास में श्रद्धालु हिंदू विधिपूर्वक पवित्र नदियों में स्नान करते हैं। आपने गौर किया होगा कि हमारे उत्सव ईश्वर की उपासना के साथ साथ, प्रकृति के साथ अपने संबंध दृढ़ करने में भी सक्रिय हैं। तुलसी विवाह में तुलसी के पौधे की पूजा होती है।  प्रायः प्रत्येक कुटुंब में जहाँ आँगन की सुविधा होती है, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में, तुलसी को प्रतिष्ठित कर पूजा की जाती है। “बलिप्रतिपदा” पर, अपनी कृषि संबंधी धरोहर पर ध्यान केंद्रित कर समृद्ध फसल के प्रतिरूप, बलीराजा की पूजा करते हैं। हम अपने पारिवारिक संबंधों को भी उत्सवों के माध्यम से पुष्ट करते हैं – कार्तिक प्रतिपदा पर पति-पत्नी का और भाईदूज पर भाई-बहन का संबंध सुदृढ़ होता है। देवताओं की उपासना इन उत्सवों का अभिन्न अंग है - उदाहरणार्थ लक्ष्मी पूजन दीपावली का आधारभूत अंग है। चातुर्मास में प्रकृति के सम्मान पर ध्यान देते हुए धार्मिक तप का आचरण किया जाता है। यही एकादशी व्रत का भी ध्येय है। पर्वों का हम जितना अधिक चिंतन और अध्ययन करते हैं, उतना ही अधिक हमें ज्ञात होता है कि हमारे पूर्वजों ने धर्म, प्रकृति, सामाजिक प्रथाओं और शारीरिक तपस्या इत्यादि को किस तरह हमारे पर्वों के आचरण में सम्मिलित किया है। अंततोगत्वा ये त्यौहार सामंजस्यपूर्ण जीवनशैली का पथ प्रदर्शित कर हमारी आध्यात्मिक यात्रा को सुचारु बनाते हैं। 

आपने यह भी देखा होगा कि इन सभी उत्सवों में ओत प्रोत एक ही सूत्र है – हमारा सनातन धर्म, जो हमारे देश को एक साथ बाँध कर रखता है। यदि आप दक्षिण भारत में हैं, तो आप कार्तिगइ दीपम् में अपने पड़ोसियों के साथ मनःपूर्वक सम्मिलित होंगे, अथवा उड़ीसा में  “बोईता बंदना” को वहाँ के निवासियों के साथ ! पंजाब में आप प्रसन्नतापूर्वक गुरुपर्व मनाएँगे। हमारे धर्म में न केवल विविधता में समानता दर्शाई जाती है, अपितु सक्रियतापूर्वक इसे प्रोत्साहित भी किया जाता है। हम जिन उत्सवों का आचरण करते हैं, वे हमसे न केवल प्रकृति की उपासना करवाते हैं, बल्कि ये पर्व हमें प्रकृति के और भी निकट ले जाते हैं। हमारा धर्म वस्तुतः एक महान संयोजक शक्ति है, जो विविधता और सांस्कृतिक असमानताओं के बावजूद हमारे देश को महान बनाती है।   

शुभं भवतु !

              ।।ॐ श्री गुरुभ्यो नमः ।।ॐ श्री भवानीशंकराय नमः ।।ॐ श्री मात्रे नमः ।। 

जय शंकर !
जब हम गुरु पूर्णिमा २०२२ में श्री चित्रापुर के मठाधिपति परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी के चातुर्मास व्रत की कालावधि में कार्ला मठ गये थे, तब पूज्य गुरुदेव भगवान के श्री चरणों में उत्तर भारत के साधकों के लिए शिविर आयोजित करने का निवेदन किया था।  

परम पूज्य स्वामीजी की हम पर अथाह अनुकंपा और स्नेह है, अतः  उन्होंने तुरंत ही स्वीकृति प्रदान कर हमें कृतार्थ किया।
राजस्थान में स्वामीजी के मार्गदर्शन में अनेकों स्थानों पर कल्याणकारी आयोजन हो चुके थे और राजस्थान के साधकों का  २०१९-२० में शिराली में एक भव्य शिविर का आयोजन भी हो चुका था।

उत्तर प्रदेश के सारस्वत साधक भी हमारे गुरुदेव के आशीर्वचनों व हमारी पवित्र परंपरा से लाभान्वित हों, इस उद्देश्य के साथ इस शिविर की योजना बनी। जैसे ही शिविर का कार्यक्रम निर्धारित हुआ, राजस्थान के साधकों की भी गुरु महाराज के दर्शन हेतु लालसा जग उठी और वे भी शिविर में जाने हेतु तैयार हो गये।

मठ प्रबंधन ने हमें १५० साधकों के शिविर की अनुमति दी और हमने पंजीकरण शुरू कर दिया। साधकों में गुरु दर्शन - श्रवण का इतना जोश जगा कि यह संख्या २०० के पार चली गई। तब तुरंत हमें पंजीकरण रोकना पड़ा और जिनके टिकट सुनिश्चित हुए, उन्हीं १५० शिविरार्थियों को प्रवेश दे कर सविनय हाथ जोड़ना पड़ा। हालांकि लगभग २५, ३० साधक अपनी व्यक्तिगत मजबूरी के चलते ऐन वक्त पर नहीं पहुँच पाये, लेकिन फिर भी उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों से लगभग ८० और राजस्थान के ३० शिविरार्थी ६/७ नवंबर को शिराली मठ पहुँचे।

७,८,९,१० नवंबर को चार दिवसीय भव्य शिविर का आयोजन श्री चित्रापुर मठ में हुआ।

शुभ संयोग से इसी दौरान देव दीपावली का त्यौहार भी संपन्न हुआ और साधकों को पालकी यात्रा, आतिशबाजी, ढ़ोल ताशे, अद्भुत नृत्य, रंगोली और भव्य रोशनी से सजे श्री चित्रापुर मठ के दर्शन करने और एक कल्पनातीत रोमांच का अनुभव करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। 

चित्रापुर सारस्वत समाज के आराध्य देवता भगवान श्री भवानीशंकर महादेव व पूर्वाचार्यों की समृद्ध परंपरा, उत्तर प्रदेश के भगवान श्रीकृष्ण के कर्मयोग और राधा रानी के अगाध प्रेम की परंपरा तथा राजस्थान की मीरा बाई सरीखी अनन्य भक्ति व ठेठ ग्रामीण संस्कृति का त्रिवेणी संगम हुआ, जो वास्तव में अद्भुत व अकल्पनीय था।

७ नवंबर को शिविर के प्रथम दिवस पर परम पूज्य श्रीमत् सद्योजात शंकराश्रम स्वामीजी द्वारा दीप प्रज्वलित कर शिविर का विधिवत् शुभारंभ किया गया। इसके तुरंत बाद सभी शिबिरार्थियों को मठ के परिसर में स्थापित विभिन्न स्थलों और मठ में प्रतिष्ठित मंदिरों और पूर्वाचार्यों की सन्निधियों की परिक्रमा-वंदना के क्रम से परिचित कराया गया।
फिर हमने परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी तृतीय द्वारा स्थापित श्री चित्रापुर मठ की अमूल्य धरोहर ‘वस्तु संग्रहालय’ एवं नारी-सशक्तिकरण के उपक्रम ‘संवित सुधा’ का अवलोकन किया। शाम पाँच बजे "पंचवटी" में अत्यंत सरल और रोचक माध्यम से साधकों को संस्कृत संभाषण करवाया गया।

फिर उसी स्थान पर पूज्य स्वामीजी का पदार्पण हुआ और उन्होंने अपने श्रीमुख से आशीर्वचन दे कर साधकों को अभिभूत किया। सायंकाल सात बजे दीपमालिकाओं, रंगोली, आतिशबाजी व चकाचौंध रोशनी से सजे मठ परिसर को देख कर साधक रोमांच से भाव विभोर हो गए, फिर श्री भवानीशंकर महादेव का पालकी उत्सव और शिवगंगा सरोवर की परिक्रमा, नाव में श्री गणेश देव को साथ लेकर अष्टावधान सेवा अर्पित करते हुए उत्सव मनाया गया।

८ नवंबर को प्रातः  मातृ वर्ग द्वारा श्री देवी अनुष्ठान तथा पुरुष वर्ग द्वारा श्री गायत्री अनुष्ठान किया गया। ११ बजे सभी साधकों को मठ के अंतर्गत कैंब्रे फार्म व गोशाला का भ्रमण करवाया गया। तत्पश्चात् दोपहर में चंद्रग्रहण के दौरान साधकों ने जप तथा भजन कीर्तन किया। सांय ४.३० बजे धर्म प्रचारक डा. चैतन्य गुलवाड़ी माम द्वारा पर्दे पर मठ द्वारा संचालित विभिन्न गतिविधियों का शानदार प्रस्तुतीकरण किया गया। शाम को संस्कृत संभाषण का अभ्यास-सत्र हुआ।

९ नवंबर प्रातः आठ बजे सभी साधकों को बसों द्वारा गोकर्ण स्थित भंडीकेरि आदिमठ ले जाया गया। भट्ट माम द्वारा वहाँ पर प्रतिष्ठित हमारे प्रथम गुरु परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम (प्रथम) स्वामीजी की सन्निधि, मठ व परंपरा से संबंधित सभी जानकारी दी गई। तथा वहाँ पर स्थित पवित्र कोटितीर्थ के दर्शन कर साधकों ने पुण्य लाभ अर्जित किया। फिर साधकों का समूह मल्लापुर ग्राम स्थित परम पूज्य श्रीमत् शंकराश्रम (द्वितीय) स्वामीजी  के समाधि स्थल पहुँचा। अरुण उभयकर माम ने इस समाधि-मठ से संबंधित संपूर्ण जानकारी दे कर साधकों को कृतार्थ किया। फिर शिराली लौटकर दोपहर में सभी साधक विश्वप्रसिद्ध मुर्डेश्वर महादेव मंदिर पहुँचे और दर्शन कर लाभान्वित हुए। तत्पश्चात् यह दल मठ के अंतर्गत स्थित अल्वेकोड़ी   समुद्र तट पहुँचा और समुद्र में अठखेलियाँ कर साधक रोमांच और कौतूहल से भर उठे।
वहीं समुद्र तट पर पूज्य स्वामीजी के सान्निध्य में उत्तर भारत के साधकों ने भजनों की सरिता बहा कर खूब वाहवाही लूटी और पूज्य गुरुदेव ने अति प्रसन्न होकर सभी को आशीर्वाद प्रदान किया।
 
१० नवंबर को प्रातः दस बजे से परम पूज्य गुरुदेव द्वारा शिराली मठ में श्री देवी पूजन किया गया। फिर ४० साधकों को श्री पादुका पूजन करने का सौभाग्य मिला। इसके बाद सभी साधकों को पूज्य स्वामीजी  द्वारा श्री तीर्थ वितरण किया गया और कुछ बड़भागी साधकों को, जिन्होंने भिक्षा-सेवा अर्पण की थी, पूज्यश्री के हाथों श्री भिक्षा प्रसाद भी मिला। सायं चार बजे से पूज्य स्वामीजी ) द्वारा शिविर समापन आशीर्वचन हुआ। उत्तर प्रदेश के साधक शाम की ट्रेन से लौट गए।

११ नवंबर को राजस्थान के साधकों ने गोकर्ण स्थित महाबलेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन किए और समुद्र तट पर अठखेलियाँ  कर खूब आनंद लिया। शाम ५.३० बजे इन साधकों ने भटकल से मुंबई की ट्रेन पकड़ी।

चार दिवसीय शिविर में सुप्रभातम् , प्राणायाम, निनाद, दीप नमस्कार, प्रातः कालीन, मध्याह्न एवं सायंकालीन अष्टावधान पूजा, चाय, नाश्ता, भोजन प्रसाद आदि दैनंदिन कार्यक्रम रहे।

राजस्थान के साधकों ने मुंबई में भी कुछ दर्शनीय स्थलों का भ्रमण किया। इस यात्रा में किये गये मठ प्रबंधन के आतिथ्य तथा शिबिरार्थियों के अनुभव व आनंद को शब्दों में पिरोना असंभव है।

हम सभी पर हमारे अतिप्रिय स्वामीजी का स्नेहिल आशीर्वाद ऐसे ही बना रहे।

।। ॐ नमः पार्वती पतये हर हर महादेव ।। 

 आलेख - श्रीमती साधना कायकिणी, बेंगलूरु
 हिंदी भाषांतर - अनुवाद समिति

 

 

नवरात्रि, देवी पूजन का एक बहुप्रतीक्षित त्यौहार है, जो बहुत धूमधाम और भव्यता के साथ मनाया जाता है।

 

माघी नवरात्रि (फरवरी में), चैत्र नवरात्रि (मार्च/अप्रैल में), आषाढ़ नवरात्रि (अगस्त में) और शारदीय नवरात्रि (अक्टूबर/नवंबर में), ये चार मुख्य नवरात्रि हैं। परंतु इस आश्विज मास की शारदीय नवरात्रि को सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय माना जाता है। हर हिंदू माह का एक अधिष्ठान देवता होता है सार्वभौम माता आश्विज मास की अधिष्ठात्री देवी हैं। इस प्रकार इस महीने के शुक्ल पक्ष के दौरान पूरे विश्व में देवी का विशेष रूप से स्वागत कर उसकी पूजा की जाती है।

 

शारदीय नवरात्रि आश्विज मास की शुक्ल प्रतिपदा के पहले दिन से आरंभ होती है और दसवें दिन संपन्न होती है, जिसे विजयादशमी या दशहरा के रूप में मनाया जाता है। इन नौ दिवसों में हर दिन देवी शक्ति का अलग अलग रूप में, अलग अलग नाम से संबोधित कर पूजन किया जाता है

 

नवरात्रि के प्रथम दिन वे पर्वतों के राजा हिमवान की सुंदर पुत्री शैलपुत्री के रूप में आती हैं। दूसरे दिन उनका ब्रह्मचारिणी के रूप में दर्शन होता है, वह तपस्वी रूप जो महान तपस्वी शिव को लुभाने के लिए तपस्या में रत है।

तीसरे दिन वे अर्धचंद्र को धारण करने वाली घंटी के आकार के मुकुट के साथ प्रकट होती हैं, अतः उन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है। चौथे दिन कूष्मांडा –  देवी का एक ऐसा रूप है जहाँ देवी को पूरे ब्रह्मांड की निर्मात्री के रूप में दर्शाया गया है। पाँचवें दिन उन्हें सुब्रह्मण्य या कार्तिकेय देव की पावन  माता के रूप में दर्शाया गया है और ललिता पंचमी को स्कंदमाता के रूप में उनके अत्यंत आकर्षक दर्शन होते हैं। छठवाँ दिन देवी सरस्वती को समर्पित है और देवी की पूजा कात्यायन ऋषि की पुत्री कात्यायनी के रूप में की जाती है। सातवें दिन उनके कालरात्रि के विकराल रूप की पूजा की जाती है, जहाँ उनका शांत रूप बुराई को नष्ट करने हेतु रौद्र रूप में परिवर्तित हो जाता है। आठवें दिन को दुर्गाष्टमी कहा जाता है और देवी एक सौम्य एवं दयालु महागौरी के रूप में जानी जाती हैं। नवरात्रि उत्सव के नौवें और अंतिम दिन उन्हें सिद्धिदात्री अर्थात् इच्छापूर्ति करने वाली देवी के रूप में पूजा जाता है।

 

 समस्त विश्व में भक्तों द्वारा नौ रातों की पूजा करने के पश्चात् यह  विशेष दसवाँ दिन विजयादशमी कहलाता है इसे दशहरे के रूप में भी मनाया जाता है, जिस दिन भगवान श्री राम ने रावण का वध किया और अयोध्या की ओर अपनी दिग्विजय यात्रा प्रारंभ की।

 

हमारे श्री चित्रापुर मठ शिराली में नवरात्रि को अनूठे और आनंदमय उत्सव के रूप में मनाया जाता है। कुछ चित्रापुर सारस्वत परिवारों के कुटुंब देवता श्री चित्रापुर मठ में विराजित हैं और देवी पूजक परिवार देवी माँ के उत्सव को मनाने के लिए मठ में एकत्रि होते हैं। बड़े विग्रहों को देवी मंडप में लाया जाता है,

 

जिससे भक्तों के लिए उनकी पूजा करना सुलभ हो जाता है। विभिन्न रंगों की साड़ियों में सुशोभित, पारंपरिक आभूषणों से सुसज्जित और सुगंधित पुष्पों से अलंकृत, कुटुंब-देवियों की आराधना का यह सुन्दर दृश्य नवरात्रि महोत्सव में हमारे दिव्य मठ की शोभा को और अधिक बढ़ाता है

 

नवरात्रि उत्सव हमारे मठ में भगवान भवानीशंकर की सामूहिक आराधना और घट स्थापना के साथ आरंभ होता है। छोटे छोटे घटों में विधि-विधानपूर्वक धान्य बोये जाते हैं, जो दसवें दिन तक अंकुरित हो जाते हैं, दशहरे के दिन इन अंकुरों का प्रसाद रुप में वितरण किया जाता है। देवी मंडप में नित्य पूजा, दुर्गा नमस्कार और हर रात्रि परम पूज्य स्वामीजी द्वारा किया जाने वाला नियमित श्री देवी पूजन, इस उत्सव की विशेषताएँ  हैं। देवी को प्रसन्न करने के लिए चंडिका होम - विधिवत् यज्ञ भी एक विशेष सेवा है।

 

नवरात्रि का एक और अति प्रिय विधान कुमारिका पूजन है, इस समारोह के लिए ३ से ७ वर्ष की आयु की बालिकाओं को आमंत्रित किया जाता है। माताएँ अपनी पुत्रियों को बड़े प्रेम से तैयार करती हैंऐसा माना जाता है कि पूजा के समय देवी स्वयं उन कन्याओं के रूप में प्रकट होती हैं। विवाहित महिलाएँ नन्ही कुमारिकाओं की पूजा करती हैं, उनके पैर धोती हैं, उनकी आरती उतारती हैं और उन पर उपहारों की बौछार करती हैं। हमारे मठ में परम पूज्य स्वामीजी इस अत्यंत प्रिय विधान का आरंभ करते हैं, जिससे ये नन्हीं कुमारिकाएँ अति प्रसन्न होती हैं।

 

दसवाँ दिन नवरात्रि उत्सव का अंतिम दिवस होता है और इसे विजयादशमी कहा जाता है। यह दिन, देवी द्वारा देवों को पीड़ित करने वाले भंडासुर के वध का स्मरण  दिलाता है। यह हमारे दशम मठाधिपति सर्वप्रिय परम पूज्य श्रीमत् परिज्ञानाश्रम स्वामीजी तृतीय का पट्टाभिषेक दिवस भी है। विजयादशमी पर हम शमी वृक्ष की पूजा करते हैंविजयादशमी का यह दिवस चित्रापुर सारस्वतों द्वारा एक अत्यंत शुभ दिन माना जाता है। घट विसर्जन नवरात्रि के समापन का प्रतीक है।

 

शुक्ल चतुर्दशी को देवी की उपासना का ही विस्तार माना जाता  है, क्योंकि हम देवी लक्ष्मी को माँ भूमि के रूप में पूजते हैं। धान्य लक्ष्मी के रूप में धान के खेतों में देवी की पूजा की जाती है। नव धान्य (९ प्रकार के अनाज) को भक्ति भाव से मठ में लाकर अर्पित किया जाता है।

 

पूर्णिमा के दिन हम धनलक्ष्मी का पूजन करते हैं, इस विशेष पूर्णिमा दिवस का एक दिव्य और महत्वपूर्ण नाम है - कोजागरी पूर्णिमा ! ऐसी मान्यता है कि इस रात्रि को रात भर जागते रहने से आध्यात्मिक शक्ति मिलती है। ऐसा माना जाता है कि देवी लक्ष्मी स्वर्ग से दीप्तिमान चंद्रकिरणों के मार्ग से धरती पर उतरती  हैं और वे पूछती हैं, "को जागर्ति" ? अर्थात् "कौन जाग रहा है" ? जो भी साधक उस रात्रि को जागता है , वह विशेष रूप से धन्यभागी होता है

हमारे परम पूज्य स्वामी जी द्वारा समाज की ओर से किया गया श्री देवी पूजन उस दिन देर रात्रि तक चलता है।

 

बादाम मिश्रित दूध , जो सोलह कलाओं युक्त चंद्रमा की रश्मियों के संपर्क से पावन किया गया है, उसे प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है।

 

सभी आयु एवं वर्ग के साधकों द्वारा गाए जाने वाले भक्तिपूर्ण भजनों के साथ एक उत्साहपूर्ण और आनंदमय गरबा नृत्य के साथ उत्सव संपन्न होता है। इस गरबा नृत्य का समापन परम पूज्य स्वामीजी द्वारा दिव्य मधुर वाणी में गाए भजन के साथ होता है। तत्पश्चात् शीघ्र ही जब परम पूज्य स्वामीजी साधकों का मार्गदर्शन करते हुए ध्यान करवाते हैं , तो पूरी सभा दिव्य मौन में डूब जाती है।

 

इस प्रकार एक पखवाड़े तक चलने वाले इस पावन देवी उत्सव का समापन होता है। नवरात्रि उत्सव वास्तव में साधकों के जीवन में एक नव शक्ति का संचार करता है। जो भी साधक इस उत्सव में भावपूर्ण भक्ति से संलग्न होता है, उसकी आध्यात्मिक ऊर्जा में अवश्य ही उत्थान होता है।

................................................

मूल लेखिका - श्रीमती विजया नाडकर्णी 
हिंदी भाषांतर - टीम अनुवाद 
 

श्री गुरुभ्यो नमः

 

 अनंत चतुर्दशी (भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा) का अगला दिन अर्थात् दो मास की शुभ चातुर्मास अवधि का समापन दिवस सीमोल्लंघन के रूप में मनाया जाता है। सीमन् और उल्लंघनम् (क्रॉसिंग ओवर) शब्दों से व्युत्पन्न, सीमोल्लंघन का अर्थ है - चातुर्मास अवधि के लिए एक नियत स्थान पर रहने के पश्चात् उस स्थल की सीमा को पार करनाचातुर्मास के दौरान की गई वैयक्तिक साधनाओं को साधक उनके सफल समापन के लिये कृतज्ञता की प्रार्थना के साथ देवताओं और गुरुपरंपरा के चरणों में अर्पित करते हैं। साधनाओं के दौरान हुई किसी भी त्रुटि के लिए क्षमायाचना भी की जाती है।

 पूज्य स्वामीजी द्वारा पूजन

 इस दिन संध्या के प्रारंभिक प्रहरों में स्वामीजी उस स्थान के निकटतम नदी तट (इस वर्ष २०२२  कार्ला में इंद्रायणी नदी) पर पहुँचते हैं, हाँ उन्होंने चातुर्मास का व्रताचरण किया है। सुसज्जित भव्य पंडालगाया जाता है और पूजा की तैयारी पहले से कर ली जाती है। सर्वप्रथम पूज्य स्वामीजी श्री गणेश पूजन करते हैं और उसके पश्चात् उनके द्वारा 'श्री आदि शंकराचार्य पूजन' किया जाता है। इन पूजनों में भाग लेना, एकत्रित साधकों के लिए एक दिव्य अनुभव होता है, जो इस विशेष अवसर के लिए दूर-दूर से आते हैं। पूजा के बाद उपस्थित साधक पूज्य स्वामीजी के साथ 'श्री दक्षिणामूर्ति स्तोत्र' का पाठ करते हैं। उपस्थित साधक श्रीमद्भगवद्गीता के किसी भी एक अध्याय का भी पाठ करते हैं।

 

स्वामीजी आदिशंकराचार्य पूजन करते हुए

 

इसके बाद पूज्य स्वामीजी नदी के समीप जाते हैं, जहाँ 'गंगा पूजन' की तैयारी की गई है। नदियों के प्रति श्रद्धा हमारी परंपरा का एक महत्वपूर्ण अंग है और कोई भी पूजा पवित्र नदियों के 'आवाहनम्' के बिना पूरी नहीं होती है।  प्रकृति के प्रति कृतज्ञता दर्शाने की यह हमारी पारंपरिक पद्धति है।

 

गंगा पूजन करते स्वामी जी

 

 आरती के बाद पूज्य स्वामीजी नौका विहार के माध्यम से सीमोल्लंघन के लिए नाव पर आरूढ़ होते हैं। नाव को फूलों से सजाया जाता है और स्वामीजी नदी के उस पार दूसरे तट पर जाते हैं। श्री चित्रापुर मठ स्थायी समिति के अध्यक्ष और उस वर्ष के चातुर्मास के संयोजक व भट्ट माम इत्यादि कुछ सेवक नाव में स्वामीजी के साथ जाते हैं। अपने गुरु को नदी-पार किनारे से उत्साहपूर्वक लौटते हुए देखना साधकों को एक गर्मजोशी का अनुभव कराता है,

 "मैं आपको इस संसार के पार ले जाने की प्रतिज्ञा करता हूँ

नदी की घाटी भजनों से गूंज उठती है जब स्वामीजी उत्सुक साधकों के पास लौटते हैं, जो 'जय जयकार' और 'हर हर महादेव' के उद्घोष के साथ साधक उनका स्वागत करते हैं।

 

नौका विहार

 

पूज्य स्वामीजी फिर मठ में लौट आते हैं। जैसे-जैसे तारे धीरे-धीरे आकाश में प्रकट होने लगते हैं, साधक बड़ी आतुरता से शोभा-यात्रा की प्रतीक्षा करते हैं।

 शोभा यात्रा

 पूज्य स्वामीजी फूलों और रंगबिरंगे विद्युत गोलों की लड़ियों से सुशोभित एक रथ पर आरूढ़ होते हैं। ढोल की थाप पर शोभायात्रा निकलती है। सभी आयु के साधकों द्वारा अखंड भजन गाए जाते हैं। अपने परम पूज्य स्वामीजी को देखते हुए हमें "देवु गुरुरूपेयेत्ता" (देव गुरुरूप में आते हैं) का अनुभव होता है। स्वामीजी का दैदीप्यमान स्मित हमारे हृदय को आनंद और आह्लाद से भर देता है। साधक गुरुदेव का स्वागत फूलों, फलों और आरती के एक पळेरू (थाली) से करते हैं। जब स्वामीजी अभिनंदन में अपना हाथ उठाते हैं, तो हम यह अनुभव करते हैं कि गुरु शक्ति का आशीर्वाद और प्रसाद हम पर बरस रहा है।

 

 शोभा यात्रा

 शोभायात्रा मठ में लौटती है और पूज्य स्वामीजी रथ से उतरते हैं, हाँ उनका पारंपरिक पूर्ण-कुंभ से स्वागत किया जाता है। तत्पश्चात् धर्मसभा और पादपूजा का आयोजन होता है। लंबी शोभायात्रा के बावजूद भी साधक स्वयं को उल्लसित अनुभव करते हैं और पूज्य स्वामीजी के इन आश्वासन भरे आशीर्वचन को सुनने के लिए उत्साह से परिपूरित रहते हैं, कि सभी की साधना को हमारे परम गुरु के चरण कमलों में अर्पित किया गया है और गुरु परंपरा  हमें एक उच्च स्तर तक ले जाती है। जब हम दीप नमस्कार का पाठ करते हैं, तब हम श्रद्धापूर्वक स्वामीजी से मार्गदर्शन के लिए प्रार्थना करते हैं कि हम आध्यात्मिक पथ पर प्रगति करना जारी रख सकें

 

 

को कोटि कोटि प्रणाम।

 

फोटो सौजन्य श्री चित्रापुर मठ वेबसाइट वीडियो

मूल लेखिका - श्रीमती विद्या कुम्टाकर कुमार

हिंदी भाषांतर - टीम अनुवाद

३० अगस्त, २०२२

 

तयी (सुवर्ण गौरी व्रत या हरतालिका) और चवती (गणेश चतुर्थी) चित्रापुर सारस्वतों द्वारा मनाए जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण आनंददायक उत्सवों में से एक हैं। ये उत्सव न केवल बाह्य इन्द्रियों पर अपितु आंतरिक स्तर पर भी हृदयग्राही होते हैं। इन दोनों उत्सवों में मूलभूत यह विचार है कि देवी गौरी अपनी माँ के घर कुळार आई हैं - उन्हें माँ ने अपना सान्निध्य दिया है। इस दौरान मन से  सारी चिंताएँ व व्यथाएँ दूर हो जाती हैं गर्मजोशी और पारस्परिक सहृदयता रिश्तों की मजबूती का मार्ग प्रशस्त करते हैं और लोगों के साथ मिलने-मिलाने से हमें आभासी जगत से कुछ पीछे हटकर पुनः वास्तविक संसार में कदम रखने में सहायता मिलती है। यह वह समय भी है जब घ्राण और स्वाद की लालसा प्रचोदित होकर प्रसन्नतापूर्वक तृप्त हो जाती है इन अवसरों को मनाने के लिए परिवारों द्वारा सुन्दर नूतन परिधान एवं आभूषण धारण किए जाते हैं।

 

भाद्रपद में शुक्ल पक्ष की तृतीया और चतुर्थी के दिन जैसे-जैसे निकट आते हैं, हमारे (संक्षेप में ‘आमची’/चित्रापुर सारस्वत ) घरों में उत्सवी गतिविधियों की झड़ी लग जाती है तथा व्यस्ततम योजनाओं के कार्यान्वयन में अवर्णनीय उत्साह दिखाई देता है

 

तयी (वायणा पूजा या गौरी तृतीया) गणेश चतुर्थी (चवती) से एक दिन पहले मनाई जाती है और इस दिन देवी पार्वती (या सुवर्ण गौरी) अर्थात् भगवान गणेश की माता की पूजा की जाती है। तयी के दिन बालिकाएँ, युवतियाँ और महिलाएँ अग्रगण्य होकर बड़ी प्रसन्नता से सभी कार्य करती हैं, जिनमें पुरुष भी सहायता करते हैं

 

परंपरागत रूप से तयी और चतुर्थी पूजा की व्यवस्था गौरी पूजा से लगभग दो दिन पहले अमावस्या के बाद आरंभ होती है। पूजा क्षेत्र, मंदिर और घर की पूरी सजावट और (बहुप्रतीक्षित) नैवेद्य हेतु खाद्य पदार्थों की तैयारी सुव्यवस्थित रूप से, धूमधाम से की जाती है। घर की वरिष्ठ महिला द्वारा सौंपे गए किसी भी काम को करने में परिवार के सभी सदस्य खुशी-खुशी अपने अपने सामर्थ्यानुसार शामिल होते हैं। सहायक-गण  दिन में कई बार पूजा और खाद्य पदार्थों में उपयोगी सामग्री के क्रय के लिए घर और बाजार के बीच दौड़ते रहते हैं और एक के बाद एक तेजी से विभिन्न कार्यों को कुशलतापूर्वक संपन्न करते हैं। इस उत्साहपूर्ण उत्सव के भँवर में फँसने से कोई स्वयं को रोक नहीं पाता।

 

तयी - वायण और गौरी पूजा (वायणा दोरी: एक साधारण धागा या मिश्रित रंगों वाला रेशमी धागा) : गृहस्वामिनी के नेतृत्व में इस पवित्र और शुभ अवसर को अन्य अधिकांश त्यौहारों की अपेक्षा अधिक गहन उत्साह के साथ मनाया जाता है। कभी-कभी पुजारियों की सहायता से घर की महिलाएँ, परिवार के वंशजों के लिए देवी की कृपा और आशीर्वाद के साथ-साथ अन्य निकटतम लोगों की दीर्घायु के लिए भी इस पूजा को आचरित करती हैं। नई दुल्हन के लिए तो यह एक बड़ा उत्सव है, जब वह एक नवविवाहित महिला (सुमंगली या सवाशिणी) के रूप में अपनी पहली ‘तयी’ के लिए अपने मायके जाती है।

 

स्नान करने के बाद नारियल के ३ रंध्रों  (हम इन्हें  '२ आँखें और मुँह' कहते हैं) के बीच ऊपरी सूखे भूसे के केवल एक गुच्छ (जिसे ‘शेंडी’ कहा जाता है) को छोडते हुए शेष भूसे को उतारकर नारियल को अच्छी तरह से साफ किया जाता है विवाहित महिलाएँ आम तौर पर कम से कम ५ नारियलों का उपयोग करती हैं और अविवाहित युवतियाँ (जो ‘कन्या’ कहलाती हैं) और बालिकाएँ २ नारियलों का उपयोग करती हैं (कुछ परिवार ३ नारियलों का उपयोग करते हैं)।

 

युवाओं/युवतियों का काम अधिकतर नारियलों की अच्छी तरह से सफाई कर उन्हें शुद्ध करने के लिए हल्दी के पानी में डुबोकर रखना है। नम नारियल के गोले को रंगीन चाक और फिर रंग के साथ रचनात्मक रूप से चित्रित किया जाता है। दो नारियल क्रमशः गौरी और गणेश का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुने जाते हैं। विशेषतः घर का बना काजल नारियल की आँखों पर लगाया जाता है और उसके मुँह में नारियल के तेल से सना हुआ सिंदूर (एक नारंगी-लाल कॉस्मेटिक पाउडर) या कुमकुम लगाया जाता हैनारियल के सबसे बड़े उभार पर पूरी परिधि को चाक द्वारा एक चक्र से घेरा जाता है। गौरी सजाने के लिए चुना हुआ नारियल पूरी तरह से सफेद चाक या रंग (आँखों और मुँह को छोड़कर) से रंगा जाता है और नारियल के एक तरफ सिंदूर (कुमकुम) का तिलक लगाया जाता है – कुछ महिलाएँ कुमकुम से आड़ा तिलक लगाती हैं, जबकि कुछ सादा गोल टीका लगाती हैं फिर सभी तैयार नारियल मंदिर (देवाकूड़) या घर के किसी सुरक्षित एकांत कोने में रख दिए जाते हैं।

 

गौरी और वायणा पूजा की सुबह महिलाएँ सिर-स्नान करती हैं और वायणा पूजा समाप्त होने तक उपवास रखती हैं। इसके बाद उस दिन बिना लहसुन, बिना प्याज के सात्विक आहार का पालन किया जाता है। जहाँ गौरी के प्रतीक नारियल को पूजा के लिए रखा जाता है, उस पोडियम के पीछे गौरी का एक चित्र चिपकाया जाता है।

 

गौरी की बाँयी ओर अगले दिन (चवती) गणेशजी को स्थापित करने के लिए जगह छोड़ी जाती है चपटे केले के पत्ते पर (जिसकी नोंक यजमान की ओर रहे ) मुट्ठी भर चावल के दानों से एक छोटा सा ढेर बनाते हैं, जिस पर जलपूरित एक कलश स्थापित होता है। कलश में पाँच रूपए का सिक्का एवं एक पूरी सुपारी डालकर उसके मुँह पर पाँच दूर्वा (तृण) निमज्जित कर रखी जाती हैं। तैयार कलश के मुख पर पाँच साफ आम के पत्ते या सुपारी के पत्ते रखे जाते हैं और 'नारियल गौरी' को  उस पर स्थापित किया जाता है। कलश पर रखे नारियल-गौरी को फिर आभूषणों से सजाया जाता है (कुछ परिवार केवल गौरी पूजा के लिए उपयोग किए जाने वाले आभूषण रखते हैं) और कलश के चारों ओर एक नई रेशमी साड़ी को लपेट कर सुगंधित फूलों से सजाया जाता है। नारियल-गौरी को एक मंगलसूत्र पहनाकर, हरे और काले काँच की चूड़ियाँ दोनों तरफ रखी जाती हैं और अक्सर नारियल पर एक देवी-मुख (चांदी, तांबे या मिट्टी से बना एक मुखौटा) भी बाँधा जाता है। पूजा के दौरान, कई विधियाँ क्रमानुसार की जाती हैं: आचमन, कलश पूजा, शंख पूजा, शुद्धिप्रोक्षण, पंचामृत पूजा और अभिषेक के साथ गौरी प्राणप्रतिष्ठा। एक छोटा बाँस का दोना या थाली (पळेरु) में ताजी सुपारी, पान के पत्ते (विडो), फल (अधिकांशतः केला), सुपारी के फूल (भिंगारु) या सुगंधित पुष्प, जैसे चंपा, मोगरा इत्यादि, हल्दी, कुमकुम, खीरा, तुरई, गन्ने का एक टुकड़ा (कब्बू ), भिंडी और एक प्रज्ज्वलित दीपक (दिवली) रखा जाता है। दर्पण, कंघी, हलदी-कुमकुम, मंगलसूत्र और वायणाडोरी का अलंकार भी अर्पण किया जाता है।

 

महिलाओं द्वारा डोरीबंधन स्तोत्र-पाठ के साथ किया जाता है। सुपारी के फूल या अन्य फूलों को एक निश्चित बिंदु से प्रदक्षिणा करते हुए, बहुरंगी धागे (१६, ९, ७ या ५ गाँठ) पर गूंथा जाता है। डोरी को फिर गले में पहना जाता है या अपनी बायीं कलाई में बाँधा जाता है।

 

इसके बाद वायणा पूजा की जाती है। गौरीजी को नमस्कार करने के बाद फूल और चावल के दाने (अक्षत) अर्पित किए जाते हैं। एक थाली ( पलेरू) में नारियल, अक्षत, हल्दीकुमकुम, सुपारी, पान के पत्ते अर्पित किए जाते हैं। गौरी पूजा और चवती के लिए तैयार संपूर्ण नैवेद्य का भोग गौरी को लगाया जाता है । फिर चवती के लिए तैयार नैवेद्य, अगले दिन भगवान गणेश को अर्पित करने हेतु पुनः भंडार में रखा जाता है (माँ गौरी को पता होना चाहिए कि उनके पुत्र गणेश क्या खावेंगे )! कुमकुम, वेणी (गूंथे हुए फूलों की चोटी) और गौरी को चढ़ाए गए फूलों को प्रसाद रूप से महिलाओं द्वारा बाद में उपयोग किया जाता है। सभी उपस्थित जन तीर्थ पंचामृत (दूध, पानी, शहद, चीनी और घी का मिश्रण) ग्रहण करते हैं। पूजा का समापन, प्रसन्नता, सुस्वास्थ्य, सुख-समृद्धि, स्वस्थ संतान, जीवनसाथी की दीर्घायु (अखंड सौभाग्य) और सारी त्रुटियों के लिए क्षमा माँगते हुए, देवी गौरी को समर्पित प्रार्थना के साथ होता है।

 

वायण के बाद महिलाएँ दोपहर के भोजन में चावल तथा अन्य व्यंजन स्वीकार करती हैं और शाम को उपवास (फलाहार) करती हैं। गौरी के लिए नैवेद्य की तैयारी में गेहूं के आटे या वरई से बनी पात्तोळयो, खीरे की खीर, खीरे का सलाद (कोच्चोळी), ५ तरह की हरी पत्तेदार सब्जियों की अलनी (लवणरहित) उपकरी, चावल-नारियल की खीर ( चेप्पी - बिना नमक या चीनी के) और कुछ लोग आम्बट (एक प्रकार की दाल)और फोड्यो (पकोड़े) भी बनाते हैं। चावल-नारियल की खीर और अलनी उपकारी दोनों ही बिना नमक के बनाई जाती हैं। देवी गौरी सौम्य व सरल स्वरूपा हैं, तदनुसार उनका नैवेद्य भी सादा, सरल होता है।

 

चवती : अगले दिन (भाद्रपद महीने में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी होने के कारण), देवी गौरी के पुत्र भगवान गणेश का आगमन बड़ी धूमधाम और भव्यता के साथ मनाया जाता हैऐसा कहा जाता है कि वे अपनी माता को वापस कैलाश पर्वत पर ले जाने के लिए आते हैं। ज्ञान, समृद्धि और सौभाग्य के देवता श्री गणेश अत्यंत जनप्रिय हैं। सभी बाधाओं और विपत्तियों के निवारक होने के कारण, किसी भी शुभ कार्य को आरंभ करने से पहले उनका आवाहन किया जाता है। भक्त भगवान गणेश की मूर्ति घर लाते हैं और पारिवारिक परंपरा या संकल्प के अनुसार डेढ़ दिन,  ३ , ५ , ७ या १० दिनों के लिए विशेष पद्धति से पूजा करते हैं।

 

गणेश-स्थापना : पुजारी प्राण-प्रतिष्ठा करते हैं और मूर्ति पर रक्त-चंदन का लेपन किया जाता है। कुछ चित्रापुर सारस्वत (आमची ) परिवार घरों में गणेश के रूप में हल्दी के पानी में शेंडी के साथ निमज्जित कर सुखाये गए बड़े नारियल का उपयोग करते हैं। उभार के चारों ओर सफेद चाक से एक परिधि-चक्र, दोनों आँखों पर काजल और मुख-रंध्र में सिंदूर लगाया जाता है।

 

गणेश का प्रतीक नारियल, उपासक की ओर दर्शित एक साफ चपटे केले के पत्ते पर चावल के एक छोटे से ढेर पर स्थापित किया जाता है। नारियल के चारों ओर रेशमी धोती और अंगवस्त्र पहनाया जाता है। धोती और अंगवस्त्र की अनुपलब्धि में, बीच बीच में लाल कुमकुम से रंगी हुई रूई की एक छोटी माला बनाई जाती है, जो नारियल के ऊपर ज़ांवीन ( जनेऊ /पवित्र धागा) की तरह तिरछी पहनाई जाती है। उन्हें अक्सर विशेष रूप से उन्हीं के लिए रखे गए आभूषणों से सजाया जाता है। फूलों की एक माला और विशेष रूप से उनके प्रिय जासौन (हिबिस्कस) पुष्पों को कंठ में पहनाया जाता है। गणेश पूजा में दूर्वा का विशेष महत्व है और गणेश के गले में दूर्वा की माला भी चढ़ाई जाती है।

 

यदि पर्याप्त दूर्वा उपलब्ध नहीं है, तो २१ दूर्वा एक साथ बाँधकर चढ़ाते हैं। गणेशपूजन में आमतौर पर लगभग डेढ़ घंटे का समय लगता है, जहाँ पूरा परिवार एक साथ प्रार्थना करता है। पूजन के दौरान, १०८ दूर्वा और १०८ बेलपत्र चढ़ाए जाते हैं और इस पूजन का समापन कुंकुमार्चन के साथ होता है।

 

गणेशजी भोजन-प्रिय माने जाते हैं, अतः उनके नैवेद्य में २१ खाद्य पदार्थों का एक विस्तृत समर्पण किया जाता है, जिसका आनंद बाद में प्रसाद रूप से परिवार और मित्र भी उठाते हैं। प्रसाद भोजन की तैयारी में अंबोडे, करेले की घश्शी, आलू-सुक्कें, भिंडी-उपकरी, काकडि-कोच्चोळी, कोलोकेसिया भाजी, पत्रडो (वैकल्पिक रूप से घश्शी के साथ), चटनी के साथ खोट्टे, मडगणें, विभिन्न प्रकार के पकौड़े, सेंवई की खीर वगैरह होते हैं।

 

नाश्ते के पकवानों में आमतौर पर चकली, नेवर्यो, गुड़ के लड्डू, मोदक, पंचकदाई और उड़द की दाल के आंबोडे होते हैं। २१ मोदक विशेष रूप से दिवली (दीपक) के रूप में बनाए जाते हैं जिन्हें प्रज्ज्वलित कर भगवान गणेश की आरती के लिए उपयोग किया जाता है और आरतियाँ बड़े उत्साह और भक्ति के साथ गाई जाती हैं।

 

पूजा के अंतिम दिन सबसे पहले नारियल-गौरी को थोड़ा सा हिलाकर माँ गौरी का विसर्जन किया जाता है। भगवान गणेश का विसर्जन नारियल (या मूर्ति) को उसके स्थान पर ही थोड़ा मोड़कर होता है, जिसमें प्रतिभागी उत्साहपूर्वक "गणपति बाप्पा मोरया, पुढच्या वर्षी लवकर या "  का जयकारा लगाते हैं ( जैसे कि कह रहे हों – पुनर्मिलामः !!)। मूर्ति को एक रंगबिरंगे जुलूस में बाजे-गाजे की संगत में ले जाकर किसी जलाशय में विसर्जित किया जाता है। इस विसर्जन से पहले, कुमकुम मिले हुए लाल रंग के पानी में (लाट्ट्या / कुमकुमा-उद्दाक) को एक वाट्टें (एक उथली, रिम वाली थाली) में पूजा के मंच से कुछ दूरी पर इस तरह रखा जाता है कि परिवार के सदस्य इस पानी में नारियल और प्रज्ज्वलित दीपकों का प्रतिबिंब देख सकें। परिवार के वरिष्ठ सदस्य युवाओं को सलाह देते हैं – तीव्र प्रार्थना करने और ईश्वर से आशीर्वाद की याचना करने का यह अंतिम 'मौका' है।

 

इसके बाद कनिष्ठ सुमंगली महिलाओं द्वारा आयु में वरिष्ठ सुमंगली महिलाओं (सुवाशिनियों)को वायण अर्पण करने और स्वादिष्ट प्रसाद ग्रहण करने का समय आता है। गौरी और गणेश के प्रतीक नारियलों का उपयोग प्रसाद-स्वरुप मीठे व्यंजन बनाने के लिए किया जाता है जिसके लिये सभी तरसते हैं

 

                                           .................................................

 

 

लेखिका – श्रीमती कुशल तल्गेरी बैलूर; सहयोग एवं छायाचित्र – श्रीमती उमा सवूर;  हिंदी भाषांतर – टीम अनुवाद

५ अगस्त २०२२

 

श्रावण मास अपने साथ कई त्यौहार लेकर आता है। इस शुभ महीने के दौरान, चित्रापुर सारस्वत ब्राह्मण समाज की विवाहित महिलाएँ अपने सौभाग्य अर्थात् दीर्घ और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए, प्रति शुक्रवार और रविवार को "चूड़ी पूजा" करती हैं।

पौराणिक महत्व :

ऐसा माना जाता है कि सर्वप्रथम सीताजी ने अपने वनवास के दौरान वन्य फूलों और पत्तियों के साथ यह पूजा अर्पण की थी। इसके पश्चात् ही यह पूजा प्रचलित हुई। एक अन्य लोक कथा यह है कि वन्य फूलों को भी देवी-देवताओं को सजाने की तीव्र इच्छा हुई। करुणामय देवताओं ने वन्य फूलों की इच्छा यह कहकर पूरी की, कि विवाहित महिलाओं द्वारा श्रावण के महीने में एक गुच्छे में (कोंकणी भाषा में “चूड़ी “) बाँध कर पूजे जाने के पश्चात्, उन वन्य पुष्पों को देवी- देवताओं पर चढ़ाया जा सकता है।

 

चित्रापुर सारस्वत "चूड़ी पूजा" कैसे मनाते हैं :

परिवार की विवाहित महिलाएँ, प्रात: शीघ्र उठकर शीर्ष-स्नान कर पारंपरिक वस्त्र धारण करती  हैं। पाँच दूर्वा (तीन तृण वाली घास) और पाँच प्रकार के फूलों को इकट्ठे बाँधकर वे एक मनमोहक “चूड़ी” तैयार करती हैं। “पाँच” की यह संख्या बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारे पुराणों और इतिहास में यह पाँच पतिव्रता नारियों की प्रतीक है, जिनका स्मरण आज भी विवाह - संस्कार के प्रति श्रद्धा और प्रतिबद्धता के लिए किया जाता है - अहिल्या, मंदोदरी, द्रौपदी, तारा और सीता। इन्हें विवाहित महिलाओं के लिए आदर्श प्रेरणास्त्रोत माना जाता है।

परंपरागत रूप से, स्थानीय और वन्य पौधे ('अनवली', 'घण्टा माड्डो ', 'नेलानिल्ली' और 'पच्चकाना') और फूल ('रत्नगंधी'- मयूरपुष्प, 'सुगंधी'- जिंजर लिली, 'शंखपुष्प'- बटरफ्लाई पीज, 'करवीर'-पीला ओलियंडर और 'रथपुष्प'- पगोडापुष्प) का उपयोग किया जाता है। जिन शहरों में ये फूल और पौधे आसानी से उपलब्ध नहीं होते, वहाँ गुलाब, शेवंती, चँपा इत्यादि को दूर्वा के साथ बाँधकर चूड़ी तैयार की जाती है। आमतौर पर, चूड़ी विषम संख्याओं में बनाई जाती हैं -५, ७, ९, ११, १५, २१ इत्यादि। चूड़ी को अर्पण कर हम ईश्वर के प्रति, वर्षा-ऋतु में खिलनेवाले रंग- बिरंगे फूलों और हरियाली के लिए अपनी कृतज्ञता दर्शाते हैं।

 

चूड़ी
 
 
फूल और दूवाा

 

पूजा के लिए नैवेद्य भी तैयार किया जाता है। शुक्रवार को, आमतौर पर चावल रहित व्यंजनों का भोग चढ़ाया जाता है - उदाहरणार्थ- सूजी या सेवइयाँ की खीर, सूजी का हलवा, गुड़ से बने हुए मीठे पोहे, हयग्रीव (चना दाल, पानी, गुड़, कसा हुआ नारियल, घी, काजू, किशमिश, जायफल और इलाइची पाउडर से बना हुआ मीठा पकवान) आदि। रविवार के दिन,“उँड्लकाल” नामक एक विशेष मीठा नैवेद्य पकाया जाता है, जिसे चावल के आटे, पानी, नारियल के दूध, हल्के से नमक और गुड़ से बनाया जाता है। “चून”, एक मीठा व्यंजन है जो कसे हुए नारियल, गुड़ और इलाइची पाउडर से बनता है, अथवा “कणयेंद्री”- सूजी, गुड़, घी और नारियल के दूध से बना हुआ नैवेद्य भी रविवार के दिन बनाया जाता है।

 

चूड़ी और नैवेद्य के तैयार होने के पश्चात्, तुलसीजी के सामने एक सुंदर रंगोली रचाई जाती है। एक तांबूल के ऊपर, चूड़ी को एक सुपारी, नैवेद्य, हल्दी, कुंकुम, थोड़े से फूल और अक्षत के साथ रख कर तुलसीजी को अर्पण किया जाता है। पहली चूड़ी, दो तांबूल और सुपारी के साथ तुलसीजी को समर्पित कर आशीर्वाद की विनती की जाती है।

तुलसी पूजा के पश्चात्, घर के बाहर रंगोली सजायी जाती है।  दहलीज के दोनों ओर हल्दी और कुंकंम चढ़ाकर, दोनों ओर एक-एक चूड़ी रखी जाती है। शेष सीढ़ियाँ घर की अविवाहित कन्याओं के द्वारा सजायी जाती हैं। घर के भीतर की ओर उन्मुख होकर लक्ष्मी देवीजी की आरती करके उनसे घर में सुख- शांति के आशीर्वाद की प्रार्थना की जाती है। कई घरों में, “भाग्यदा लक्ष्मी बारम्मा” यह सुप्रसिद्ध पारंपरिक भजन गाया जाता है। इसके पश्चात्, सूर्य देवता को अर्घ्य अर्पण किया जाता है - सर्व प्रथम अक्षत समर्पित करके, सूर्य देवता का दर्शन करते हुए, उन्हें कलश से जल अर्पित किया जाता है। इसके दौरान, नवग्रह स्तोत्र (जपाकुसुम संकाशम… दिवाकरम्) के प्रथम श्लोक का उच्चारण किया जाता है।

(पृष्ठ १४७, श्री चित्रापुर स्तुतिमंजरी २०१९ (संस्कृत) 

फिर रसोईघर में चावल रखनेवाले डिब्बे को सजाया जाता है। उसे हल्दी और कुंकुम चढ़ाकर एक चूड़ी अर्पित की जाती है। परंपरागत रूप से, गाँवों में छाँछ की मथनी खव्लॉ एक खूँटी  से बंधी हुई रहती है। उस खूँटी और घर के कुएँ को भी एक -एक चूड़ी अर्पित की जाती है।

रविवार के दिन, एक साफ, धुले हुए तांबूल या केले के पत्ते के पिछले भाग पर, सात पत्थर रखे जाते हैं। प्रत्येक पत्थर को हल्दी- कुंकुम से लेप कर उस पर एक चूड़ी रखी जाती है। कहा जाता है कि यह सप्तर्षि-पत्नियों के प्रति सम्मान और उनसे आशीर्वाद-याचना का प्रतीक है।

श्रावण के पहले शुक्रवार को घर के मंदिर में कुलदेवी/देवता के लिए एक चूड़ी रखी जाती है। एक चूड़ी, स्थानीय मंदिर में क्षेत्र देवता को अर्पित की जाती है। परिवार की दिवंगत सुहागिनों का स्मरण करके उन्हें भी एक एक चूड़ी अर्पित की जाती है। अंत में घर की वरिष्ठ महिलाओं को तांबूल और सुपारी के साथ चूड़ी अर्पित करके उनका आशीर्वाद पाया जाता है। महिलाएँ एक-दूसरे के घर जाकर भी वरिष्ठ महिलाओं को चूड़ी अर्पित करती हैं। यह परंपरा, पारिवारिक और सामाजिक संबंधों को और भी दृढ़ करने में समर्थ हुई है।

नवविवाहित दुल्हन की पहली चूड़ी पूजा उसके मायके में आचरित की जाती है। माँ अपनी बेटी को अपने साथ रिश्तेदारों के घरों में ले जाती है, जहाँ दुल्हन उम्र में स्वयं से बड़ी महिलाओं को चूड़ी प्रदान करती है। वे उसे प्रेमपूर्वक उपहार और आशीर्वाद प्रदान करती हैं। विवाह के दूसरे वर्ष में बेटी अपनी सास के साथ पूजा करती है, जो फिर उसे अपने साथ रिश्तेदारों के घर ले जाती हैं।

चूड़ी - पूजा एक बहुत ही सुंदर परंपरा है जो न केवल सामाजिक संबंधों को अपितु वैवाहिक जीवन को भी, देवी- देवताओं और वरिष्ठों के आशीर्वाद से और अधिक सशक्त करने में भी मदद करती है।

 

मूल लेख - सुनेत्रा नागरकट्टी

हिंदी भाषांतर - टीम अनुवाद

१३ जुलाई, २०२२

गुरु पूर्णिमा "चातुर्मास" के प्रारंभ की सूचक (तिथि) है, जिसका शाब्दिक अर्थ है, चार महीने और विशेष रूप से वर्षा ऋतु के। इस अवधि का उपयोग साधकों और संन्यासियों द्वारा साधना व अनुष्ठानों (जप, तप, ध्यान आदि धार्मिक तपस्याओं का अभ्यास) के लिए किया जाता है। संन्यासियों के लिए चातुर्मास के आचरण का एक और तरीका भी है, हाँ यह चार पखवाड़े तक मनाया जाता है, आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा (गुरु पूर्णिमा) से भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा (सीमोल्लंघन / उटांवची पुन्नव) तकहमारी चित्रापुर मठ परंपरा के अनुसार हमारे धर्म गुरु मठाधिपति चार पखवाड़ों (पक्ष) अर्थात दो महीने के चातुर्मास व्रत का पालन करते हैं। चातुर्मास व्रत हमारे पूज्य स्वामीजी द्वारा हर वर्ष दो माह की यह संपूर्ण अवधि हमारे पूर्वाचार्यों के पवित्र समाधि स्थलों में से किसी एक स्थल पर सतत निवास करते हुए मनाया जाता है।

गृहस्थों के लिए यह अवधि दुगनी लाभप्रद है उन्हें अपने गुरु की सेवा और श्रवण, मनन, चिंतन, पूज, भजन और जप आदि साधनाओं का अभ्यास गुरु के मार्गदर्शन और निगरानी में करने का सुअवसर मिलता है

 इस पवित्र अवधि में परम पूज्य स्वामीजी  न केवल स्वयं अपना अनुष्ठान करते हैं, बल्कि उपनिषदों, भगवद्गीता, स्तोत्र, या किसी अन्य आध्यात्मिक ग्रंथ के विषयों पर स्वाध्याय के माध्यम से साधकों को प्रबुद्ध करते हैं। हम दो महीने की अवधि के दौरान उनके आशीर्वचनों से भी लाभान्वित होते हैं। पूज्य स्वामीजी  परामर्श सत्रों के माध्यम से साधकों की शंकाओं को दूर करते हैं और उनकी आध्यात्मिक साधनाओं में प्रगति हेतु मार्गदर्शन भी करते हैं। अतः हम चित्रापुर सारस्वत साधक वैयक्तिक व सामूहिक साधना हेतु चातुर्मास की इस अवधि का पालन करते हैं।

चातुर्मास के दौरान नियमपूर्वक अपनी साधनाओं का सतत अभ्यास करने से साधक और भी अधिक आध्यात्मिक लाभ  प्राप्त करते हैं। इन साधनाओं के अंतर्गत इष्ट-मंत्र जप की अतिरिक्त मालाएँ करने अथवा चित्रापुर गुरुपरंपरा चरित्र के  पाठ का संकल्प भी हो सकता है। नियमों के अंतर्गत कुछ खाद्य पदार्थों से परहेज करने, या अन्य कोई तपस्या करने का संकल्प हो सकता है, जैसे जमीन पर सोना, हर दिन एक सुनिश्चित अवधि के लिए प्राणायाम करना इत्यादि चातुर्मास व्रत सरल हो या कठिन, आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा अर्थात गुरु पूर्णिमा पर इसका प्रारंभ हो और भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा को इसका समापन होना चाहिए।

 साधक एक संकल्प लेकर अपना निर्णय व्यक्त करता है और ईश्वर के विग्रह या चित्र के सम्मुख प्रार्थना करता है, कि "हे  ईश्वर, मैंने आपकी उपस्थिति में यह व्रत स्वीकार किया है आपके आशीर्वाद से मैं इसका त्याग किए बगैर निर्बाध रूप से सफलता प्राप्त कर सकूं।चातुर्मास के अंतिम दिन साधक अपने व्रत की सफलतापूर्वक पूर्ति हेतु ईश्वर को उनकी कृपा के लिए धन्यवाद देता है और व्रत के दौरान हुई सारी त्रुटियों के लिए क्षमा माँगता है।

व्रत हमारे शारीरिक और आध्यात्मिक शक्ति वर्धन का सशक्त माध्यम है। यह कुछ अवांछित आदतों को ‘ना ‘ कहने की क्षमता को भी दृढ़ करता है, हमारे संकल्प और आत्मविश्वास को बढ़ाता है, हमें और भी अधिक कठिन नियम स्वीकार करने के लिए प्रेरित करता है और इस प्रकार हम धीरे-धीरे निश्चित रूप से अधिक तीव्र, कृतकृत्य साधना की ओर अग्रसर होते हैं।

हमारी साधना गुरु की कृपा से ही सफलतापूर्वक आरंभ, प्रगतिशील एवं पूर्ण हो सकती है। हमें हर कदम पर गुरु के उपदेशों व मार्गदर्शन की आवश्यकता है, ताकि हम सही दिशा में और सही गति से आगे बढ़ सकें। यह गुरुशक्ति ही है जो सतत निरंतर रक्षण और मार्गदर्शन द्वारा मनुष्य को मानव जन्म के लक्ष्य, अर्थात् आत्मज्ञान तक पहुँचने में सहायता करती है। यह स्वाभाविक ही है कि हम सभी ब्रह्मविद्या-प्रवर्तक गुरुओं का स्मरण कर उन के प्रति आदर एवं कृतज्ञता प्रकट करें, जो ब्रह्मतत्त्व के ज्ञान का प्रसार करते हैं। परम पूज्य स्वामीजी गुरु पूर्णिमा पर गुरु मंडल / व्यास मंडल का पूजन कर इसी भावना को व्यक्त करते हैं  

इस दिवस का प्रारंभ भगवान भवानीशंकर सुप्रभातम् से होता है और लगभग ८ बजे परम पूज्य स्वामीजी  उस मठ में श्री चित्रापुर गुरुपरंपरा के हमारे गुरुओं की समाधि का जलाभिषेक करते हैं, जहाँ चातुर्मास व्रताचरण किया जा रहा है।  गुरु समाधियों के जलाभिषेक के साथ साथ पूज्य स्वामीजी उस मठ में प्रतिष्ठित अन्य देवी- देवताओं का भी जलाभिषेक करते हैं।

 तत्पश्चात् प्रधान अर्चक प्रार्थना करते हुए सभी साधकों की ओर से निम्नलिखित शब्दों के साथ संकल्प लेते हैं  ...

"परम पूज्य स्वामीजी अपने चातुर्मास व्रताचरण के लिए यहाँ सुखपूर्वक निवास कर सकें। हम वास्तव में इसे अपना सौभाग्य और आपका आशीर्वाद मानते हैं और अपनी सेवा करने का यह सुअवसर प्रदान करने के लिए हम परम पूज्य स्वामीजी के आभारी हैं। हम प्रसन्नतापूर्वक अपनी पूरी क्षमता से परम पूज्य स्वामीजी की सेवा करेंगे।"

सामूहिक प्रार्थना के पश्चात् पूज्य स्वामीजी अपने कुटीर में लौटते हैं सुबह १० बजे व्यास मंडल पूजन के लिए परम पूज्य स्वामीजी का आगमन होता है इस गुरुपूर्णिमा पूजन में लगभग २ घंटे लगते हैं और इस पवित्र अवसर का अनुभव करने के लिए हमेशा साधक भारी संख्या में एकत्रित होते हैं।

 गुरु पूर्णिमा पूजन में चार अंश होते हैं:

. श्री महागणपति पूजन

. ब्रह्मादि मंडल पूजन

. व्यास मंडल पूजन

. नियमित गुरु पूजन

 गुरुपूर्णिमा पूजन :-

प्रधान संकल्प के बाद, हमारे भट्ट मामों द्वारा मन्युसूक्त-पाठ के साथ पूज्य स्वामीजी द्वारा प्रार्थनापूर्वक पूर्वांग पूजा एवं श्री महागणपति पूजा, बिना किसी बाधा के गुरु पूर्णिमा पूजन को पूरा करने हेतु की जाती है इसके पश्चात् ५७ देवताओं के ब्रह्मादि (यह ‘सर्वतोभद्र मंडल ‘ के नाम से भी जाना जाता है) मंडल का पूजन किया जाता है।

 

 

 रंग-बिरंगे रंगोली पाउडर के साथ एक बोर्ड पर एक मंडल (जैसा ऊपर दिखाया गया है) बनाया जाता है, जिसमें हमारे ब्रह्मांड के प्रत्येक देवता के लिए एक निश्चित स्थान है। प्रत्येक देवता का आवाहन उनके नामों से संबंधित मंत्रोच्चार से किया जाता है। इनमें ब्रह्मा, सोम, इंद्र, अग्नि, अष्टवसु, कश्यप, अत्रि, चामुंडा, वाराही, गदा, त्रिशूल और गंगा सम्मिलित हैं।  प्रत्येक देवता का प्रतिनिधित्व करने के लिए शालिग्राम का उपयोग किया जाता है और उन्हें मंडल पर क्रम से उनके निर्धारित स्थानों पर प्रतिष्ठित कर उन्हें गंध, अक्षत और फूल चढ़ाए जाते हैं।

ब्रह्मादि मंडल के पूजन के बाद व्यास मण्डल/गुरु मण्डल का पूजन प्रारम्भ होता है।

 गुरु या व्यास मंडल

 

 

 

 

व्यास मंडल को बीच में एक छोटे से वृत्त के चारों ओर आठ पंखुड़ियों वाले एक पुष्प के रूप में दर्शाया जाता है, जो बोर्ड पर एक वर्ग में चित्रित किया जाता है। पंखुड़ियों और वृत्त में विविध रंगों वाले अनाज के दाने भरे जाते हैं और पुष्प के बाहर के भाग रंगोली से सजाए जाते हैं।

 परम पूज्य स्वामीजी व्यास पूर्णिमा पर हमारे अपने मठ संप्रदाय द्वारा निर्धारित सुनियोजित तरीके से गुरुशक्ति का आवाहन करते हैं। गुरुशक्ति सदियों से अगणित गुरु-रूपों के माध्यम से प्रकट हुई है, उन्हें सूचीबद्ध करना असंभव है। अतः  नौ गुरुओं के पंचक (गुरु और उनके चार प्रधान शिष्य) का स्वामीजी  द्वारा बड़ी श्रद्धा के साथ आवाहन किया जाता है।

ये नौ पंचक (प्रत्येक समूह में पाँच अर्थात् गुरु और उनके चार प्रधान शिष्य) इस प्रकार हैं। 

हाँ दिशाएँ दक्षिणामूर्ति पंचक के संदर्भ में दर्शाई गई हैं।

. बीच में दक्षिणामूर्ति पंचक

() सनक

() सनातन

() सनतकुमार

() सनंदन

. उत्तर में ब्रह्म पंचक

() अथर्वांगीरस

() श्वेताश्वतर

() भारद्वाज

() नारद

ईशान्य (पूर्वोत्तर) में वशिष्ठ पंचक

() याज्ञवल्क्य

() दत्तात्रेय

() श्वेतकेतु

() पराशर

. पूर्व में व्यास पंचक

() सुमंतु

() जैमिनी

() पैल

() वैशंपायन

. आग्नेय (दक्षिण पूर्व) में कृष्ण पंचक

() भीष्म

 () शुक

() गौड़पाद

() गोविंदपाद

. दक्षिण में भाष्यकार पंचक

() विश्वरूप (सुरेश्वराचार्य)

() पद्मपा

() स्तामलक

() तोकाचार्य

. द्रविड़ाचार्य पंचक नैऋत्य (दक्षिण पश्चिम) में

() विवरणाचार्य

() विद्यारण्य

() आनंदगिरि

()अनुभूतिस्वरुपाचार्य

. पश्चिम में गुरु पंचक

() परम गुरु

() परमेष्ठी गुरु

() परात्पर गुरु

() समस्त ब्रह्मविद्या संप्रदाय प्रवर्तक

. वायव्य (उत्तर पश्चिम) में आत्म पंचक

() अंतरात्मा

() परमात्मा

() सर्वात्मा 

() ब्रह्मात्मा

मंडल में गुरु और उनके चार शिष्यों को यथाक्रम उनकी पंखुड़ियों में प्रतिष्ठित कर उनकी पूजा की जाती है। यहाँ भी गुरुओं और शिष्यों के प्रतीक स्वरुप शालिग्रामों का उपयोग किया जाता है। बीच का वृत्त श्री दक्षिणामूर्ति का स्थान है, शिव का गुरु रूप, जिन्हें प्रायः चार हाथों वाले - एक में रुद्राक्ष माला, एक में पुस्तक, एक में अमृत कलश व एक हाथ  चिन्मुद्रा में, वटवृक्ष के नीचे आसीन रूप में चित्रित किया जाता हैपूज्य स्वामीजी  अपने स्फटिक-शिवलिंग और श्री राजराजेश्वरी देवी के विग्रह को वृत्त में प्रतिष्ठित करते हैं। इस मंडल में कुल नौ गुरुओं और उनके छत्तीस शिष्यों को उनसे संबंधित मंत्रों के साथ गंध, अक्षत और पुष्प चढ़ाकर पूजा की जाती है।

गुरु मंडल पूजा के पश्चात्, स्वामीजी  नियमित गुरु पूजन आरंभ करते हैं। इस पूजन के दौरान वहाँ उपस्थित भक्त स्वामीजी  के पीछे पीछे श्लोकों, प्रार्थनाओं और अष्टोत्तर शतनामावली को दोहराते हैं। स्वामीजी  गुरु अष्टोत्तर शतनामावली के साथ साथ बिल्वपत्र और वेदव्यास अष्टोत्तर शतनामावली के दौरान तुलसी पत्र अर्पित करते हैं।

 पूजा के अंत में परम पूज्य स्वामीजी भक्ति से सराबोर श्री वेदव्यास अष्टक का पाठ करते हैं और अन्य सभी साधक इसे उनके पीछे पीछे दोहराते हैं। स्वामीजी इस वेदव्यास अष्टक का अर्थ भी बताते हैं, जिसमें गुरु व्यासाचार्य की स्तुति उनके सभी गुणों के साथ की जाती है। सुबह के सत्र का समापन श्रीपादुका पूजन और परम पूज्य स्वामीजी द्वारा तीर्थ वितरण के साथ होता है।

शाम को धर्म सभा आयोजित की जाती है और गुरु पूर्णिमा के लिए एकत्र हुए सभी लोग परम पूज्य स्वामीजी के आशीर्वचन को सुनने के लिए उत्सुकता से प्रतीक्षा करते हैं। गुरु पूर्णिमा का पूरा दिन गुरु और गुरु-शक्ति के स्मरण को समर्पित होता है। सुबह का समय पैंतालीस गुरुओं का स्मरण करते हुए व्यतीत होता हैसंध्याकाल हमारी गौरवशाली श्री चित्रापुर गुरु-परंपरा के ग्यारह